Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

“आशा की नदी”

“आशा की नदी”
इस सृष्टि में आशा की नदी अनवरत् बह रही है। यह लेने वाले पर है कि वह कितना ले। कोई लुटिया भर लेता है, कोई लोटा भर तो कोई गगरा भर। लेकिन कुछ अभागे नदी का बहाव देखते रह जाते हैं। उसमें आचमन करने का भी उसे सौभाग्य प्राप्त नहीं होता।

2 Likes · 2 Comments · 89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
surenderpal vaidya
है शारदे मां
है शारदे मां
नेताम आर सी
अनुभव
अनुभव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन एक संगीत है | इसे जीने की धुन जितनी मधुर होगी , जिन्दगी
जीवन एक संगीत है | इसे जीने की धुन जितनी मधुर होगी , जिन्दगी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सबके सामने रहती है,
सबके सामने रहती है,
लक्ष्मी सिंह
मुख्तलिफ होते हैं ज़माने में किरदार सभी।
मुख्तलिफ होते हैं ज़माने में किरदार सभी।
Phool gufran
पिछले पन्ने 4
पिछले पन्ने 4
Paras Nath Jha
इक शाम दे दो. . . .
इक शाम दे दो. . . .
sushil sarna
ये इश्क़-विश्क़ के फेरे-
ये इश्क़-विश्क़ के फेरे-
Shreedhar
"खुश रहिए"
Dr. Kishan tandon kranti
महाकाल भोले भंडारी|
महाकाल भोले भंडारी|
Vedha Singh
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
इंजी. संजय श्रीवास्तव
सामाजिक मुद्दों पर आपकी पीड़ा में वृद्धि हुई है, सोशल मीडिया
सामाजिक मुद्दों पर आपकी पीड़ा में वृद्धि हुई है, सोशल मीडिया
Sanjay ' शून्य'
*सर्दियों में एक टुकड़ा, धूप कैसे खाइए (हिंदी गजल)*
*सर्दियों में एक टुकड़ा, धूप कैसे खाइए (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
खुशी पाने की जद्दोजहद
खुशी पाने की जद्दोजहद
डॉ० रोहित कौशिक
संयुक्त परिवार
संयुक्त परिवार
विजय कुमार अग्रवाल
2603.पूर्णिका
2603.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सुबह का प्रणाम। इस शेर के साथ।
सुबह का प्रणाम। इस शेर के साथ।
*प्रणय प्रभात*
#उलझन
#उलझन
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
मेरी शक्ति
मेरी शक्ति
Dr.Priya Soni Khare
अधि वर्ष
अधि वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
उगते विचार.........
उगते विचार.........
विमला महरिया मौज
वो सब खुश नसीब है
वो सब खुश नसीब है
शिव प्रताप लोधी
।। जीवन प्रयोग मात्र ।।
।। जीवन प्रयोग मात्र ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
* तुगलकी फरमान*
* तुगलकी फरमान*
Dushyant Kumar
सनातन की रक्षा
सनातन की रक्षा
Mahesh Ojha
संन्यास के दो पक्ष हैं
संन्यास के दो पक्ष हैं
हिमांशु Kulshrestha
ओ चाँद गगन के....
ओ चाँद गगन के....
डॉ.सीमा अग्रवाल
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
छिप-छिप अश्रु बहाने वालों, मोती व्यर्थ बहाने वालों
छिप-छिप अश्रु बहाने वालों, मोती व्यर्थ बहाने वालों
पूर्वार्थ
Loading...