Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2023 · 4 min read

*आवारा कुत्तों की समस्या 【हास्य व्यंग्य】*

आवारा कुत्तों की समस्या 【हास्य व्यंग्य】
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
आपने कभी आवारा कुत्तों को ध्यान से देखा है ? यह बिना मतलब के इधर-उधर घूमते रहते हैं । न मंजिल का पता ,न रास्तों का ज्ञान । जिधर भाग्य ले गया ,उधर चल दिए । न चलने का सलीका है ,न बैठने की सभ्यता है । इनके पास कोई जीवन दर्शन है, इसकी तो आशा ही नहीं की जा सकती । इसके विपरीत पालतू कुत्तों को देखिए ! घर से निकलते हैं तो नहा-धोकर बाल काढ़ कर कितने सलीके से सड़क पर उतरते हैं ! देखो तो दूर से पता चल जाता है कि कोई पालतू कुत्ता आ रहा है । ऐसा नहीं कि केवल गले में पट्टा और हाथ में पकड़ी हुई चेन ही इनकी पहचान है । वास्तव में अगर सभ्यता है ,तो केवल पालतू कुत्तों में ही है । वरना आवारा कुत्तों ने तो सभ्यता का नाम-निशान मिटा देने का ही मानो संकल्प ले रखा है ।
आवारा कुत्ते एक समस्या के रूप में सभी जगह हैं। क्या गाँव ,क्या शहर ,क्या गली-मोहल्ले और क्या सड़क ! जिधर से गुजर जाओ ,यह दिखाई पड़ जाते हैं । अच्छा-भला आदमी प्रसन्नचित्त होकर कहीं जा रहा है और देखते ही देखते उदासी और भय से ग्रस्त हो जाता है ।
आमतौर पर आवारा कुत्ते झुंड में मिलते हैं । इकट्ठे होकर चार-पाँच आवारा कुत्ते टहलना शुरू करते हैं । इन्हें कोई फिक्र नहीं होती । दुनिया में सबसे ज्यादा मस्ती इनको ही छाती है । चाहे जिधर को मुड़ गए। जिसको देखा ,मुँह फैला लिया। दाँत दिखाने लगे और वह बेचारा इस सोच में पड़ जाता है कि इन से अपनी जान कैसे बचाई जाए ?
कुछ आवारा कुत्ते जरूरत से ज्यादा आवारा होते हैं । यह जब देखो तब मनचले स्वभाव के साथ विचरण करते नजर आते हैं। इनको देखकर आदमी की हालत पतली हो जाती है । कई बार यह लोगों को दौड़ा देते हैं लेकिन आदमी की रफ्तार से आवारा कुत्ते की रफ्तार ज्यादा तेज होती है । यह छलांग लगाकर उसे पकड़ लेते हैं कई बार काट खाते हैं । आवारा कुत्ते हमेशा कटखने नहीं होते । कुछ बेचारे इतने सीधे-साधे होते हैं कि बच्चे तक उन्हें कंकड़-पत्थर मार देते हैं और वह रोते हुए चले जाते हैं । कुछ आवारा कुत्तों को लोग प्रेमवश भोजन भी कराते हैं । कुछ लोग बिस्कुट खिलाते हैं। अपनी अपनी श्रद्धा के अनुसार लोग आवारा कुत्तों से प्रेम करते हैं लेकिन किसी के अंदर यह हिम्मत नहीं आती है कि वह आवारा कुत्ते को गोद में उठाकर अपने घर पर ले जाकर पाल ले । वह पंद्रह मिनट के लिए आवारा कुत्ते से प्रेम करेंगे और बाकी पौने चौबीस घंटे आम जनता को परेशान करने के लिए आवारा छोड़ देंगे ।
यह तो मानना पड़ेगा कि पालतू कुत्ता शरीफ होता है हालांकि जिन घरों में कुत्ता पाला जाता है उसके गेट के भीतर कोई आदमी घुसना पसंद नहीं पड़ता क्योंकि मालिक से पहले कुत्ता अतिथि की आवभगत के लिए आकर खड़ा हो जाता है। यद्यपि मालिक का कहना यही रहता है कि हमारा कुत्ता काटेगा नहीं । लेकिन कुत्ता तो कुत्ता है । अगर काट ले तो कोई क्या कर सकता है ? मालिक को नहीं काटेगा , इसके मायने यह नहीं है कि वह किसी को नहीं काटेगा । जब पालतू कुत्ता किसी मेहमान को काट लेता है ,तब भी मालिकों के पास बड़ा सुंदर-सा जवाब रहता है कि हमारे कुत्ते के काटने से घबराने की कोई बात नहीं है । इससे कोई खतरा नहीं है ।
मगर समस्या यह है कि पालतू कुत्तों से तो बचा जा सकता है मगर आवारा कुत्तों से कैसे बचा जाए ? क्या आदमी सड़कों पर निकलना बंद कर दे या गलियों-मोहल्लों में न जाए ?
कई बार लोग दो-चार का झुंड बनाकर उन गलियों से जाते हैं जहां आवारा कुत्तों के पाए जाने की संभावना अधिक होती है । लेकिन यह भी समस्या का कोई समाधान नहीं है । कई बार आवारा कुत्ता जब दो-तीन लोगों को एक साथ देखता है तो और भी ज्यादा खुश हो जाता है तथा सोचता है कि आज थोक में काटने के लिए लोग मिल गए । वह इकट्ठा दो-तीन को काट लेता है ।
नगरपालिका वाले अगर चाहें तो कुत्तों को पकड़कर एक “कुत्ता जेल” नामक स्थान पर ले जाकर बंद कर सकते हैं । कुत्ता-जेल में कुत्तों को खाना मुफ्त दिया जाता रहेगा लेकिन फिर वह किसी मनुष्य को नहीं काट पाएंगे । इस तरह आवारा कुत्तों की समस्या पूरी तरह हल हो जाएगी । दुर्भाग्य से न कुत्ता-जेल बन पाती है और न आवारा कुत्तों को पकड़ने की योजना क्रियान्वित हो पाती है । आवारा कुत्ते गलियों में आवारागर्दी करते हुए टहलते रहते हैं और शरीफ आदमी अपने घरों में बंद रहने के लिए मजबूर हो जाता है ।
————————————————
लेखक : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

785 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
*साला-साली मानिए ,सारे गुण की खान (हास्य कुंडलिया)*
*साला-साली मानिए ,सारे गुण की खान (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
तप त्याग समर्पण भाव रखों
तप त्याग समर्पण भाव रखों
Er.Navaneet R Shandily
समझदार बेवकूफ़
समझदार बेवकूफ़
Shyam Sundar Subramanian
अब हर राज़ से पर्दा उठाया जाएगा।
अब हर राज़ से पर्दा उठाया जाएगा।
Praveen Bhardwaj
रविवार की छुट्टी
रविवार की छुट्टी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*अदृश्य पंख बादल के* (10 of 25 )
*अदृश्य पंख बादल के* (10 of 25 )
Kshma Urmila
हर तरफ भीड़ है , भीड़ ही भीड़ है ,
हर तरफ भीड़ है , भीड़ ही भीड़ है ,
Neelofar Khan
#मुक्तक
#मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
दर्द भी
दर्द भी
Dr fauzia Naseem shad
बेवफ़ाई
बेवफ़ाई
Dipak Kumar "Girja"
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
2447.पूर्णिका
2447.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नींबू की चाह
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
बेईमान बाला
बेईमान बाला
singh kunwar sarvendra vikram
स्मार्ट फोन.: एक कातिल
स्मार्ट फोन.: एक कातिल
ओनिका सेतिया 'अनु '
Dear Cupid,
Dear Cupid,
Vedha Singh
एक महिला अपनी उतनी ही बात को आपसे छिपाकर रखती है जितनी की वह
एक महिला अपनी उतनी ही बात को आपसे छिपाकर रखती है जितनी की वह
Rj Anand Prajapati
.......शेखर सिंह
.......शेखर सिंह
शेखर सिंह
कविता कि प्रेम
कविता कि प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मी ठू ( मैं हूँ ना )
मी ठू ( मैं हूँ ना )
Mahender Singh
ये जुल्म नहीं तू सहनकर
ये जुल्म नहीं तू सहनकर
gurudeenverma198
गुरु हो साथ तो मंजिल अधूरा हो नही सकता
गुरु हो साथ तो मंजिल अधूरा हो नही सकता
Diwakar Mahto
* गीत कोई *
* गीत कोई *
surenderpal vaidya
I want to tell them, they exist!!
I want to tell them, they exist!!
Rachana
शिक्षा अपनी जिम्मेदारी है
शिक्षा अपनी जिम्मेदारी है
Buddha Prakash
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
सत्य सनातन गीत है गीता
सत्य सनातन गीत है गीता
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"बच सकें तो"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
Loading...