Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2023 · 1 min read

आलेख – प्रेम क्या है?

प्रेम…
सृष्टि के हर एक
जीव में पनपने वाला पौधा है। यह न छोटा बड़ा न जात-पात और न ही गरीब अमीर के धरातल को देखता है।यह बस हृदय रूपी खाद का रसपान करके प्रफुल्लित होता जाता है।
प्रेम का रूप परिवर्तन भी होता है यह नहीं की स्थिर रहेगा,यह जैसे जैसे नयी उम्र की दहलीज को छुएगा वैसे ही रूप बदलता जाएगा।
जैसे नवांकुर में यह ममता और खिलौनों में बढ़ेगा, फिर मित्रों के संग में शामिल होकर हंसेगा, उसके बाद यह आलिंगन और स्पर्श की अभिलाषा में बड़ा होगा जो अपना पूर्ण आकार लेने तक स्थिरता के साथ बढ़ता रहेगा, उसके बाद यह फिर से ममता, स्नेह में परिवर्तित हो जाएगा तथा अंत में पुण्यात्मा की धारणा में बंधकर स्वतंत्र यानी सर्वस्व स्वरूप में मुक्त हो जाएगा।
प्रेम निरंतर पनपता जाएगा।
प्रेम एक सागर जैसा है और दरिया की तरह भी….
जैसे ही यह पर्वतों से बहेगा दरिया बनकर शामिल फिर सबको लेता जाएगा क्योंकि यह आफताब की भांति सबके दिलों को अपनी ओर आकर्षित कर प्रकाशमान करता है, यह जहां से निकलेगा वहां अपना वजूद बनाता जाएगा।
यह सौन्दर्य है उस आलम्बंन का जहां क्षितिज पैदा होता है और आभास कराता है कि इससे बढ़कर कुछ नहीं जो बिल्कुल सत्य है।
यह जिस धरातल पर अंकुरित होता वहां वासना, स्वार्थ और आंतकवाद जैसी प्रवृत्ति को पनपने नहीं देता है।
इसलिए प्रेम सद्मार्ग और मोक्ष का द्वार है।

1 Like · 139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी एक भंवर है
जिंदगी एक भंवर है
Harminder Kaur
नारदीं भी हैं
नारदीं भी हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
Rj Anand Prajapati
पिया - मिलन
पिया - मिलन
Kanchan Khanna
‘ विरोधरस ‘---8. || आलम्बन के अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---8. || आलम्बन के अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
सफर वो जिसमें कोई हमसफ़र हो
सफर वो जिसमें कोई हमसफ़र हो
VINOD CHAUHAN
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
माँ आज भी जिंदा हैं
माँ आज भी जिंदा हैं
Er.Navaneet R Shandily
तुम होते हो नाराज़ तो,अब यह नहीं करेंगे
तुम होते हो नाराज़ तो,अब यह नहीं करेंगे
gurudeenverma198
"कीचड़" में केवल
*Author प्रणय प्रभात*
पंडित मदनमोहन मालवीय
पंडित मदनमोहन मालवीय
नूरफातिमा खातून नूरी
शिव रात्रि
शिव रात्रि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गौरैया
गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
*अन्नप्राशन संस्कार और मुंडन संस्कार*
*अन्नप्राशन संस्कार और मुंडन संस्कार*
Ravi Prakash
एक पल में ये अशोक बन जाता है
एक पल में ये अशोक बन जाता है
ruby kumari
तमन्ना है तू।
तमन्ना है तू।
Taj Mohammad
"सदियों का सन्ताप"
Dr. Kishan tandon kranti
इश्क़
इश्क़
लक्ष्मी सिंह
दिल से दिल तो टकराया कर
दिल से दिल तो टकराया कर
Ram Krishan Rastogi
हुई बरसात टूटा इक पुराना, पेड़ था आख़िर
हुई बरसात टूटा इक पुराना, पेड़ था आख़िर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरा एक मित्र मेरा 1980 रुपया दो साल से दे नहीं रहा था, आज स
मेरा एक मित्र मेरा 1980 रुपया दो साल से दे नहीं रहा था, आज स
Anand Kumar
गजब है उनकी सादगी
गजब है उनकी सादगी
sushil sarna
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मेरे सपनों का भारत
मेरे सपनों का भारत
Neelam Sharma
*बाल गीत (सपना)*
*बाल गीत (सपना)*
Rituraj shivem verma
मन-गगन!
मन-गगन!
Priya princess panwar
3200.*पूर्णिका*
3200.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
International  Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
Dr Archana Gupta
पानी
पानी
इंजी. संजय श्रीवास्तव
Loading...