Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

आलता महावर

रचना क्रमाँक 1–

“जीवन के रथ पर चढ़कर”

#विधा -कविता

मेरे जीवन रथ पर चढ़कर ,
प्रेम तंतु भी जल जाते हैं।
हुये सभी करुणा कोष रिक्त,
मधुकर ज्यों मधु लुटाते हैं।।

नीरव सी जीवन यात्रा में ,
अश्रु को जैसे मिलता विश्राम
निज मन दुर्बलता में खोकर ,
तन्हाई को मिलता आराम ।
छल-छल छलकते श्रम सीकर ,
परिरंभन में सुख पाते हैं।
मेरे जीवनरथ पर चढ़कर ,
प्रेमतंतु भी जल जाते हैं।।

गतिमान पथिक भी थक कर जब,
सुख स्वपनों में सो जाता है ।
विरह-वेदना के दुर्गम पथ ,
प्रेम का आगोश पाता है ।
थकित पाँव डगमग से करते ,
चलते चलते रुक जाते हैं ।
मेरे जीवन रथ पर चढ़कर ,
प्रेम तंतु भी जल जाते हैं।।

लौटा दी है धरोहर सभी ,
निर्बल मन में अब ठौर नहीं ।
सुप्तावेग बजे वीणा भी ,
आता आम्र पर बौर नहीं ।
काँटों मध्य सुमन गुंथ कर ,
जैसे सुरभि लुटा जाते हैं ।
मेरे जीवनरथ पर चढ़कर ,
प्रेमतंतु भी जल जाते हैं।।
★★<>★★

✍©मनोरमा जैन पाखी
भिंड ,मध्य प्रदेश
पूर्णतः मौलिक स्वरचित और अप्रकाशित।

Language: Hindi
77 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2983.*पूर्णिका*
2983.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राजा जनक के समाजवाद।
राजा जनक के समाजवाद।
Acharya Rama Nand Mandal
नए सफर पर चलते है।
नए सफर पर चलते है।
Taj Mohammad
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
surenderpal vaidya
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
खुशी(👇)
खुशी(👇)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*तैयारी होने लगी, आते देख चुनाव (कुंडलिया)*
*तैयारी होने लगी, आते देख चुनाव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
झरते फूल मोहब्ब्त के
झरते फूल मोहब्ब्त के
Arvina
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
स्वामी श्रद्धानंद का हत्यारा, गांधीजी को प्यारा
स्वामी श्रद्धानंद का हत्यारा, गांधीजी को प्यारा
कवि रमेशराज
जन्नत चाहिए तो जान लगा दे
जन्नत चाहिए तो जान लगा दे
The_dk_poetry
मुझे नहीं नभ छूने का अभिलाष।
मुझे नहीं नभ छूने का अभिलाष।
Anil Mishra Prahari
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
Dhriti Mishra
युग बीते और आज भी ,
युग बीते और आज भी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमारा संघर्ष
हमारा संघर्ष
पूर्वार्थ
घर छोड़ गये तुम
घर छोड़ गये तुम
Rekha Drolia
कर्मों से ही होती है पहचान इंसान की,
कर्मों से ही होती है पहचान इंसान की,
शेखर सिंह
सितारों के बगैर
सितारों के बगैर
Satish Srijan
नारी
नारी
Dr fauzia Naseem shad
सफल व्यक्ति
सफल व्यक्ति
Paras Nath Jha
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
DrLakshman Jha Parimal
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Divija Hitkari
'मन चंगा तो कठौती में गंगा' कहावत के बर्थ–रूट की एक पड़ताल / DR MUSAFIR BAITHA
'मन चंगा तो कठौती में गंगा' कहावत के बर्थ–रूट की एक पड़ताल / DR MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"कवि के हृदय में"
Dr. Kishan tandon kranti
जंगल में सर्दी
जंगल में सर्दी
Kanchan Khanna
पागल तो मैं ही हूँ
पागल तो मैं ही हूँ
gurudeenverma198
Loading...