Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2023 · 1 min read

आरक्षण

आरक्षण के मुद्दे पर ये साफ़ हमारा कहना है
जो जितना है लायक जिसके, उसको उतना देना है।

कुछ का अब तक पेट भरा ना, अत्यंत ये दुखदायक है
अब भी कहता आने दो, सच में वो तो नालायक है।

कुछ अमीर जो दलित कहाते, वो मुफ़्त मलाई चाट रहे
कुछ ग़रीब जो स्वर्ण कहाते, आपस में दुख को बाँट रहे।

हर जाति मांगे आरक्षण, इंसा मरता है क्षण-क्षण
कर मेहनत, एक स्वर में गाओ, बोलो जय जय, जन-गण-मन।

इंसा-इंसा एक था, उसे 36 कौम में बाँट दिया
कुछ को तुमने ब्राह्मण कह दिया, कुछ को शूद्र नाम दिया।

कर्म आधारित जो था सिस्टम, जन्म आधारित बना दिया
ब्राह्मण के शुद्र भी जन्मा, ब्राह्मण उसको बता दिया।

शूद्र के घर में ब्राह्मण जन्मा, तब भी वो शूद्र कहलाया
पढ़-लिख के बन जाता अफ़सर, फिर भी जातिवाद ने खाया।

मुफ़्त में मिलती रेवड़ी, तो उसको ना अपनाओ तुम
देश प्रदेश का जो है ख़ज़ाना, उसपे ना कर्ज़ चढ़ाओ तुम।

मत बांटों इस भारत को हम सारे भाई-भाई हैं
किसके माथे पर ये लिखा है, ये धोबी वो नाई है?

कहत सुधीर सुनो भाई प्यारों, ऊंच-नीच पर मत बोलो
बोलो केवल इतना बोलो, तुम भारत माँ की जय बोलो।

#सुधीरा की कलम ✍️ से…

104 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2122 1212 22/112
2122 1212 22/112
SZUBAIR KHAN KHAN
मुझमें मुझसा
मुझमें मुझसा
Dr fauzia Naseem shad
*यहॉं संसार के सब दृश्य, पल-प्रतिपल बदलते हैं ( हिंदी गजल/गी
*यहॉं संसार के सब दृश्य, पल-प्रतिपल बदलते हैं ( हिंदी गजल/गी
Ravi Prakash
लेखनी चले कलमकार की
लेखनी चले कलमकार की
Harminder Kaur
2546.पूर्णिका
2546.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
Keshav kishor Kumar
तालाश
तालाश
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भगवान बचाए ऐसे लोगों से। जो लूटते हैं रिश्तों के नाम पर।
भगवान बचाए ऐसे लोगों से। जो लूटते हैं रिश्तों के नाम पर।
*Author प्रणय प्रभात*
रिश्ते बचाएं
रिश्ते बचाएं
Sonam Puneet Dubey
झूठी हमदर्दियां
झूठी हमदर्दियां
Surinder blackpen
विचार और रस [ एक ]
विचार और रस [ एक ]
कवि रमेशराज
तकते थे हम चांद सितारे
तकते थे हम चांद सितारे
Suryakant Dwivedi
"नजीर"
Dr. Kishan tandon kranti
हुनर है झुकने का जिसमें दरक नहीं पाता
हुनर है झुकने का जिसमें दरक नहीं पाता
Anis Shah
जय माता दी 🙏
जय माता दी 🙏
Anil Mishra Prahari
कुछ बूँद हिचकियाँ मिला दे
कुछ बूँद हिचकियाँ मिला दे
शेखर सिंह
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
फौजी की पत्नी
फौजी की पत्नी
लक्ष्मी सिंह
अँधेरी गुफाओं में चलो, रौशनी की एक लकीर तो दिखी,
अँधेरी गुफाओं में चलो, रौशनी की एक लकीर तो दिखी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पता नहीं कब लौटे कोई,
पता नहीं कब लौटे कोई,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
तू प्रतीक है समृद्धि की
तू प्रतीक है समृद्धि की
gurudeenverma198
नीर क्षीर विभेद का विवेक
नीर क्षीर विभेद का विवेक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गीत
गीत
Shiva Awasthi
तोलेंगे सब कम मगर,
तोलेंगे सब कम मगर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम जंगल की चिड़िया हैं
हम जंगल की चिड़िया हैं
ruby kumari
मोहब्बत से जिए जाना ज़रूरी है ज़माने में
मोहब्बत से जिए जाना ज़रूरी है ज़माने में
Johnny Ahmed 'क़ैस'
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
मृत्यु पर विजय
मृत्यु पर विजय
Mukesh Kumar Sonkar
बहुजन विमर्श
बहुजन विमर्श
Shekhar Chandra Mitra
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
ख़ुद को हमने निकाल रखा है
Mahendra Narayan
Loading...