Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2023 · 1 min read

आरक्षण बनाम आरक्षण / MUSAFIR BAITHA

वर्णश्रेष्ठताजनित सामाजिक आरक्षण
भकोस रहे कुछ सज्जन
चाणक्य प्रणीत साम-दाम-दण्ड-भेद में से
माकूल पेंच भिड़ाकर
बस इसी योग्यता के बूते
अपने लिए और अपनी परवर्ती पीढ़ियों के लिए
कई सरकारी पद सहज ही हथियाते रहे

और यकीनन
इतने कुछ के बावजूद
वे ताजिंदगी आरक्षण-मन से रहे कोसों दूर
जीभर संवैधानिक आरक्षणभोगियों और
उसके प्रणेता बाबा साहेब अंबेडकर को
पानी पी पीकर कोसते गरियाते रहे।

परशुराम जयंती 2004

Language: Hindi
1 Like · 271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
क्या बचा  है अब बदहवास जिंदगी के लिए
क्या बचा है अब बदहवास जिंदगी के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक अच्छे मुख्यमंत्री में क्या गुण होने चाहिए ?
एक अच्छे मुख्यमंत्री में क्या गुण होने चाहिए ?
Vandna thakur
मैं नारी हूं...!
मैं नारी हूं...!
singh kunwar sarvendra vikram
अपने मन के भाव में।
अपने मन के भाव में।
Vedha Singh
सच हकीकत और हम बस शब्दों के साथ हैं
सच हकीकत और हम बस शब्दों के साथ हैं
Neeraj Agarwal
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
Radhakishan R. Mundhra
आज की नारी
आज की नारी
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
मेरी हसरत जवान रहने दे ।
मेरी हसरत जवान रहने दे ।
Neelam Sharma
. *प्रगीत*
. *प्रगीत*
Dr.Khedu Bharti
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो ,  प्यार की बौछार से उज
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो , प्यार की बौछार से उज
DrLakshman Jha Parimal
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
Keshav kishor Kumar
ज़िंदगी के मर्म
ज़िंदगी के मर्म
Shyam Sundar Subramanian
देखिए बिना करवाचौथ के
देखिए बिना करवाचौथ के
शेखर सिंह
भूल जाऊं तुझे भूल पता नहीं
भूल जाऊं तुझे भूल पता नहीं
VINOD CHAUHAN
Them: Binge social media
Them: Binge social media
पूर्वार्थ
मेरे नयनों में जल है।
मेरे नयनों में जल है।
Kumar Kalhans
कोई भी जंग अंग से नही बल्कि हौसले और उमंग से जीती जाती है।
कोई भी जंग अंग से नही बल्कि हौसले और उमंग से जीती जाती है।
Rj Anand Prajapati
अब तलक तुमको
अब तलक तुमको
Dr fauzia Naseem shad
ऋतुराज
ऋतुराज
Santosh kumar Miri
प्रेम पथिक
प्रेम पथिक
Aman Kumar Holy
है कौन वो
है कौन वो
DR ARUN KUMAR SHASTRI
परदेसी की  याद  में, प्रीति निहारे द्वार ।
परदेसी की याद में, प्रीति निहारे द्वार ।
sushil sarna
🌷 सावन तभी सुहावन लागे 🌷
🌷 सावन तभी सुहावन लागे 🌷
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
इम्तिहान
इम्तिहान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*मुसीबत है फूफा जी का थानेदार बनना【हास्य-व्यंग्य 】*
*मुसीबत है फूफा जी का थानेदार बनना【हास्य-व्यंग्य 】*
Ravi Prakash
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
Sakhawat Jisan
*बस एक बार*
*बस एक बार*
Shashi kala vyas
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
Suryakant Dwivedi
"लेखक होने के लिए हरामी होना जरूरी शर्त है।"
Dr MusafiR BaithA
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...