Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2023 · 1 min read

आरक्षण का दरिया

आरक्षण का दरिया
(छन्दमुक्त काव्य)
~~°~~°~~°
मैं आरक्षण का दरिया…
चला था संसद से निकलकर ,
सुदूर गांवों तक जाना था मुझे ।
शहर कस्वा देहात ,
हर इलाके को पोषित करना था मुझे।
दरिये में पानी भी था ,
रवानी भी था।
पर भटक गया सुनहरी वादियों में ,
गोल गोल चक्करदार घूमता ही रहा मैं,
भंवर में,
मुश्किलों का भंवर है ये तो।
एक ही जगह पर ,
एक ही बहर पर ,
उफनता रहा रह-रह कर।
बहर-ए-ख़ुदा का मिजाज ही कुछ ऐसा था_
गोल गोल घूमता ही रहूँ मैं जीवन भर ,
आगे बढूँ ही नहीं।
अब घुटन हो रही है मुझे ,
दर्द छिपा कर कब तक रखूँ मैं ,
प्यासे को पानी की एक बूँद भी न दे सका मैं।
टकटकी लगाए देखता ही रह गया वो ,
सीमित अवधि मिली थी ,
मंज़िल तक पहुंचना था मुझको।
अब दोष किस पर मढ़ दूँ ,
कलियुग है ,
मैं खुद को दोषी ठहरा नहीं सकता ,
स्रष्टा पर दोष मढ़ना ही उचित है।
क्योंकि फंसा था तो मैं ,
स्रष्टा के दुष्चक्र में ही…

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १५ /०१/२०२३
माघ,कृष्ण पक्ष,अष्टमी ,रविवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail.com

2 Likes · 2 Comments · 409 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
Aarti sirsat
पहिए गाड़ी के हुए, पत्नी-पति का साथ (कुंडलिया)
पहिए गाड़ी के हुए, पत्नी-पति का साथ (कुंडलिया)
Ravi Prakash
.......शेखर सिंह
.......शेखर सिंह
शेखर सिंह
जीवनसाथी
जीवनसाथी
Rajni kapoor
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तुम मेरे बादल हो, मै तुम्हारी काली घटा हूं
तुम मेरे बादल हो, मै तुम्हारी काली घटा हूं
Ram Krishan Rastogi
"श्यामपट"
Dr. Kishan tandon kranti
■ सुन भी लो...!!
■ सुन भी लो...!!
*Author प्रणय प्रभात*
ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"सोच अपनी अपनी"
Dr Meenu Poonia
सदा मन की ही की तुमने मेरी मर्ज़ी पढ़ी होती,
सदा मन की ही की तुमने मेरी मर्ज़ी पढ़ी होती,
Anil "Aadarsh"
भूल भूल हुए बैचैन
भूल भूल हुए बैचैन
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
33 लयात्मक हाइकु
33 लयात्मक हाइकु
कवि रमेशराज
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
!! बोलो कौन !!
!! बोलो कौन !!
Chunnu Lal Gupta
प्रेम प्रतीक्षा करता है..
प्रेम प्रतीक्षा करता है..
Rashmi Sanjay
"वक्त" भी बड़े ही कमाल
नेताम आर सी
"सच कहूं _ मानोगे __ मुझे प्यार है उनसे,
Rajesh vyas
पूरी कर  दी  आस  है, मोदी  की  सरकार
पूरी कर दी आस है, मोदी की सरकार
Anil Mishra Prahari
दुख है दर्द भी है मगर मरहम नहीं है
दुख है दर्द भी है मगर मरहम नहीं है
कवि दीपक बवेजा
दहन
दहन
Shyam Sundar Subramanian
परिवार
परिवार
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
चाँदी की चादर तनी, हुआ शीत का अंत।
चाँदी की चादर तनी, हुआ शीत का अंत।
डॉ.सीमा अग्रवाल
तुम याद आ रहे हो।
तुम याद आ रहे हो।
Taj Mohammad
अभिनय से लूटी वाहवाही
अभिनय से लूटी वाहवाही
Nasib Sabharwal
होता अगर पैसा पास हमारे
होता अगर पैसा पास हमारे
gurudeenverma198
देश भक्ति का ढोंग
देश भक्ति का ढोंग
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
खांचे में बंट गए हैं अपराधी
खांचे में बंट गए हैं अपराधी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फितरत
फितरत
Akshay patel
Loading...