Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 1 min read

“आया रे बुढ़ापा”

“आया रे बुढ़ापा”
शिशु से बना बच्चा, बच्चे से बना जवान
यही नौजवान आज बैठ कर कराह रहा
मुश्किल हो गई है अब जीवन की डगर
नौजवान में आज जुल्मी बुढ़ापा आया,
ताउम्र भागा बच्चों का भविष्य संवारने
ज्यादातर समय अपने दफ्तर में बिताया
आज मुझे जरूरत है अपनों के सहारे की
देखा तो छोटे बच्चों को नौजवान पाया,
वो भी निभा रहे आज अपनी जिम्मेदारी
जो दायित्व कल इस वृद्ध ने भी था निभाया
चाह कर भी नहीं बैठ सकते वो आज साथ
उसने भी आज अपने दफ्तर में समय बिताया,
जीवन चक्र चल रहा है बेधड़क होकर हमेशा
धीरे धीरे बस कर्ता का किरदार का बदल गया
वर्तमान का वृद्ध जो कल का नौजवान रहा था
उसकी जगह शिशु आज नौजवान जो बन गया।

Language: Hindi
1 Like · 175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बहुत याद आता है वो वक़्त एक तेरे जाने के बाद
बहुत याद आता है वो वक़्त एक तेरे जाने के बाद
Dr. Seema Varma
जिंदगी की किताब
जिंदगी की किताब
Surinder blackpen
मनवा मन की कब सुने,
मनवा मन की कब सुने,
sushil sarna
"ग़ौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
बात पते की कहती नानी।
बात पते की कहती नानी।
Vedha Singh
हर मंजिल के आगे है नई मंजिल
हर मंजिल के आगे है नई मंजिल
कवि दीपक बवेजा
मुहब्बत में उड़ी थी जो ख़ाक की खुशबू,
मुहब्बत में उड़ी थी जो ख़ाक की खुशबू,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कन्या रूपी माँ अम्बे
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
*उठो,उठाओ आगे को बढ़ाओ*
*उठो,उठाओ आगे को बढ़ाओ*
Krishna Manshi
संस्कार
संस्कार
Sanjay ' शून्य'
संघर्षी वृक्ष
संघर्षी वृक्ष
Vikram soni
■ पौधरोपण दिखावे और प्रदर्शन का विषय नहीं।
■ पौधरोपण दिखावे और प्रदर्शन का विषय नहीं।
*Author प्रणय प्रभात*
आप की मुस्कुराहट ही आप की ताकत हैं
आप की मुस्कुराहट ही आप की ताकत हैं
शेखर सिंह
महंगाई के इस दौर में भी
महंगाई के इस दौर में भी
Kailash singh
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
नाथ सोनांचली
The Journey of this heartbeat.
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
कालजयी जयदेव
कालजयी जयदेव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
एक उड़ान, साइबेरिया टू भारत (कविता)
एक उड़ान, साइबेरिया टू भारत (कविता)
Mohan Pandey
शांत सा जीवन
शांत सा जीवन
Dr fauzia Naseem shad
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
* बुढ़ापा आ गया वरना, कभी स्वर्णिम जवानी थी【मुक्तक】*
* बुढ़ापा आ गया वरना, कभी स्वर्णिम जवानी थी【मुक्तक】*
Ravi Prakash
छाती पर पत्थर /
छाती पर पत्थर /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लोगो का व्यवहार
लोगो का व्यवहार
Ranjeet kumar patre
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वस्तु वस्तु का  विनिमय  होता  बातें उसी जमाने की।
वस्तु वस्तु का विनिमय होता बातें उसी जमाने की।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
फिर एक बार 💓
फिर एक बार 💓
Pallavi Rani
3125.*पूर्णिका*
3125.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संवेदना
संवेदना
Shama Parveen
Loading...