Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2023 · 2 min read

आया बाढ नग पहाड़ पे🌷✍️

आया बाढ नग पहाड़ पे
रोया जान गला फाड़ के

🌿🌿🥀🌷✍️🙏

बादल टकराया पहाड़ से
लपट धार पलकें फाड़ के
देख रहा जन बाढ़ सैलाव
घर द्वार सब ले गया प्लाव

नग अड़िग अचल धरा घर
बाढ़ कवच शैल शिखर बड़ा
उफान रोकने नग नाग खड़ा
कंकड पत्थर चट्टान कट गिरा

नद्य सागर रूप श्रृंगार लिए
गांव नगर जल नौका विहार
बिनआमंत्रण पानी कक्ष कोने
बाढ़ मचल रहा घर आंगन में

रौद्घ दिखाता जल तूफान
प्रलय वाण छोड़ देता जब
एन डी आरफ दीखता खडा
जानमाल बचा रहा होता ज़हां

निज सुविधा करता प्रदूषण
प्लास्टिक रेपर नाले बिखरा
बंद पड़ा गढ्ढे वहाव का द्वार
जलमग्न होते जन जंजाल

मेघा जब रोता नीले अम्बर
बौखला जाते सात समंदर
क्रोध रौद्ध पाप पुण्य भंवर की
अगाह में मृत्युदूत इंतजार खड़ा

जलधि में जल ज्वाला जलती
तरल जल अग्नि दौड़ लगाता
गली कूची मैदान रंगमहल में
ताण्डव लीला बाढ़ दिखाता

जान माल असंख्य प्राण छय
प्रजा झेलती बारंबार इसे जो
आप्लाव सीख देता हर पल पर
बत्तीसी खोल सियासत गरमाता

दोषा रोपण से नेता महानेता
बाढ़ताण्डव देख आसमान से
राहत शिविर चला सांत्वना दे
ए सी बैठ मिडिया मुखातिर

निज वाहवाही गौरव पाता
आहत जन आंसु बाढ़ मिला
जान बचाने गुहार लगाता
कान बंद आंखे खोल सुनते

कौन जनता की रुदन बोल
असंख्य मन लुहावन वादे से
जनता दिग्‌ भ्रमित हो कीमती
अंगूठा की शक्ति दिखाता है

तब चल नभ मेघा नग टकरा
बादल फटना संज्ञा से दीर्घ
अचल नगपति डोलने लगता
तुंग रुक्ष कंकड़ पत्थर चारु

छोड कर्मवीरों की पथ रोक
जन माल प्राण को दे संकट
जन गण मन आंखे लाल कर
बाढ़ विभिषिका पद पाता है

जन उड़ चल रोड़ चतुष्पद
दीर्घ छोटे सवार वाहनों में
बहा रोड़ वाहन तैराता बाढ
पढार दर्रा घाटी और मैदोनों

जन देखता नीले अम्बर में चल
श्वेत कालिमा आकृति सी मेघा
अद्रि शिखर टकरा फट बादल
मूसलधार बारिश ले आता है

जलप्रलय में किस्मत का खेल
जल परीक्षा में पास और फेल
बाढ बिकराल जनता बेहाल
रौद्ध बाढ़ आया गिरींद्र पहाड़ पे ॥

🌿🥀🐀🌿✍️🌿🌿🙏

तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण

Language: Hindi
1 Like · 169 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
वोट की खातिर पखारें कदम
वोट की खातिर पखारें कदम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
किसी की लाचारी पर,
किसी की लाचारी पर,
Dr. Man Mohan Krishna
तड़पता भी है दिल
तड़पता भी है दिल
हिमांशु Kulshrestha
मित्र बनाने से पहले आप भली भाँति जाँच और परख लें ! आपके विचा
मित्र बनाने से पहले आप भली भाँति जाँच और परख लें ! आपके विचा
DrLakshman Jha Parimal
Yesterday ? Night
Yesterday ? Night
Otteri Selvakumar
किस-किस को समझाओगे
किस-किस को समझाओगे
शिव प्रताप लोधी
"" *माँ की ममता* ""
सुनीलानंद महंत
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम अपना भी  जरा ढंग देखो
तुम अपना भी जरा ढंग देखो
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
हम हमारे हिस्से का कम लेकर आए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कोरोना चालीसा
कोरोना चालीसा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
* इस धरा को *
* इस धरा को *
surenderpal vaidya
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
सन्यासी
सन्यासी
Neeraj Agarwal
Save water ! Without water !
Save water ! Without water !
Buddha Prakash
जनता का भरोसा
जनता का भरोसा
Shekhar Chandra Mitra
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कलयुग मे घमंड
कलयुग मे घमंड
Anil chobisa
इश्क़ जब बेहिसाब होता है
इश्क़ जब बेहिसाब होता है
SHAMA PARVEEN
Tum hame  nist-ee nabut  kardo,
Tum hame nist-ee nabut kardo,
Sakshi Tripathi
कोई साया
कोई साया
Dr fauzia Naseem shad
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Sushil Pandey
सिर्फ यह कमी थी मुझमें
सिर्फ यह कमी थी मुझमें
gurudeenverma198
■ चिंतन का निष्कर्ष
■ चिंतन का निष्कर्ष
*Author प्रणय प्रभात*
भारत को निपुण बनाओ
भारत को निपुण बनाओ
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
Vishal babu (vishu)
कब टूटा है
कब टूटा है
sushil sarna
जीवन मंथन
जीवन मंथन
Satya Prakash Sharma
"नश्वर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...