Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

*आया पहुॅंचा चॉंद तक, भारत का विज्ञान (कुंडलिया)*

आया पहुॅंचा चॉंद तक, भारत का विज्ञान (कुंडलिया)

आया पहुॅंचा चॉंद तक, भारत का विज्ञान
सौ-सौ अभिनंदन नमन, यह उपलब्धि महान
यह उपलब्धि महान, चॉंद पर झंडा गाड़ा
प्रथम पृष्ठ पर हिंद, विश्व यों गया पछाड़ा
कहते रवि कविराय, देश ने हर्ष मनाया
लगा एक त्यौहार, अधिक सावन में आया
————————————
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

436 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
सुंदरता की देवी 🙏
सुंदरता की देवी 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नदी की मुस्कान
नदी की मुस्कान
Satish Srijan
जनवरी हमें सपने दिखाती है
जनवरी हमें सपने दिखाती है
Ranjeet kumar patre
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
Radhakishan R. Mundhra
दीवारें ऊँचीं हुईं, आँगन पर वीरान ।
दीवारें ऊँचीं हुईं, आँगन पर वीरान ।
Arvind trivedi
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
DrLakshman Jha Parimal
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
अंसार एटवी
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
Sanjay ' शून्य'
इश्क खुदा का घर
इश्क खुदा का घर
Surinder blackpen
ज़िंदगी का खेल है, सोचना समझना
ज़िंदगी का खेल है, सोचना समझना
पूर्वार्थ
**कुछ तो कहो**
**कुछ तो कहो**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
..
..
*प्रणय प्रभात*
"जगत-जननी"
Dr. Kishan tandon kranti
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
शेखर सिंह
Monday Morning!
Monday Morning!
R. H. SRIDEVI
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
मैं भी कवि
मैं भी कवि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ऑंधियों का दौर
ऑंधियों का दौर
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
(14) जान बेवजह निकली / जान बेवफा निकली
(14) जान बेवजह निकली / जान बेवफा निकली
Kishore Nigam
मैं महकती यादों का गुलदस्ता रखता हूँ
मैं महकती यादों का गुलदस्ता रखता हूँ
VINOD CHAUHAN
*भंडारे की पूड़ियॉं, हलवे का मधु स्वाद (कुंडलिया)*
*भंडारे की पूड़ियॉं, हलवे का मधु स्वाद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कोई कैसे ही कह दे की आजा़द हूं मैं,
कोई कैसे ही कह दे की आजा़द हूं मैं,
manjula chauhan
*दादी की बहादुरी(कहानी)*
*दादी की बहादुरी(कहानी)*
Dushyant Kumar
मां तुम बहुत याद आती हो
मां तुम बहुत याद आती हो
Mukesh Kumar Sonkar
3502.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3502.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
अधमी अंधकार ....
अधमी अंधकार ....
sushil sarna
।। कसौटि ।।
।। कसौटि ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
चार दिन की जिंदगी
चार दिन की जिंदगी
Karuna Goswami
वो आरज़ू वो इशारे कहाॅं समझते हैं
वो आरज़ू वो इशारे कहाॅं समझते हैं
Monika Arora
Loading...