Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2017 · 1 min read

आया देखो मधुमास,

आया देखो मधुमास,घोले मन में मिठास,प्रीत झाँक अँखियों में , सपने सजा रही
लाल लाल से हैं गाल, लाज का लगा गुलाल, आइने में देख मुख , गोरी शरमा रही
आँखों में घुली है भंग, हँसी के खिले हैं रंग, फागुनी बहार कैसी , चारों ओर छा रही
होती थी जो नज़रों से, नज़रों की मूक बात, आज वो निकल कर , होठों तक आ रही

डॉ अर्चना गुप्ता

3 Likes · 1 Comment · 357 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
हंस
हंस
Dr. Seema Varma
साधु की दो बातें
साधु की दो बातें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बीते साल को भूल जाए
बीते साल को भूल जाए
Ranjeet kumar patre
*मजदूर*
*मजदूर*
Shashi kala vyas
करतूतें किस को बतलाएं
करतूतें किस को बतलाएं
*Author प्रणय प्रभात*
"मन बावरा"
Dr. Kishan tandon kranti
2865.*पूर्णिका*
2865.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये मेरा हिंदुस्तान
ये मेरा हिंदुस्तान
Mamta Rani
💐मैं हूँ तुम्हारी मन्नतों में💐
💐मैं हूँ तुम्हारी मन्नतों में💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Line.....!
Line.....!
Vicky Purohit
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
उफ़,
उफ़,
Vishal babu (vishu)
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
manjula chauhan
आदमी की गाथा
आदमी की गाथा
कृष्ण मलिक अम्बाला
बड़ा मन करऽता।
बड़ा मन करऽता।
जय लगन कुमार हैप्पी
हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
हारे हुए परिंदे को अब सजर याद आता है
कवि दीपक बवेजा
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Santosh Khanna (world record holder)
हक़ीक़त का
हक़ीक़त का
Dr fauzia Naseem shad
होते वो जो हमारे पास ,
होते वो जो हमारे पास ,
श्याम सिंह बिष्ट
बदलता दौर
बदलता दौर
ओनिका सेतिया 'अनु '
मुश्किल में जो देख किसी को, बनता उसकी ढाल।
मुश्किल में जो देख किसी को, बनता उसकी ढाल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
'क्या कहता है दिल'
'क्या कहता है दिल'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
(10) मैं महासागर हूँ !
(10) मैं महासागर हूँ !
Kishore Nigam
यूनिवर्सिटी के गलियारे
यूनिवर्सिटी के गलियारे
Surinder blackpen
शांति युद्ध
शांति युद्ध
Dr.Priya Soni Khare
जब नयनों में उत्थान के प्रकाश की छटा साफ दर्शनीय हो, तो व्यर
जब नयनों में उत्थान के प्रकाश की छटा साफ दर्शनीय हो, तो व्यर
Sukoon
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Sidhartha Mishra
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
संतोष तनहा
*नेत्रदान-संकल्पपत्र कार्य 2022*
*नेत्रदान-संकल्पपत्र कार्य 2022*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-333💐
💐प्रेम कौतुक-333💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...