Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2023 · 1 min read

आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को

आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को चुनौती दे सकता है , तो गरीबी अभावों में पल रहे शिक्षार्थी औरों को चुनौती क्यों नहीं दे सकता है । सिर्फ मेहनत और जुनुन की जरूरत है ।

246 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
Monika Verma
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
The_dk_poetry
तूफानों से लड़ना सीखो
तूफानों से लड़ना सीखो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
युग बीते और आज भी ,
युग बीते और आज भी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
भूत अउर सोखा
भूत अउर सोखा
आकाश महेशपुरी
अरुणोदय
अरुणोदय
Manju Singh
यूं हर हर क़दम-ओ-निशां पे है ज़िल्लतें
यूं हर हर क़दम-ओ-निशां पे है ज़िल्लतें
Aish Sirmour
तैराक (कुंडलिया)
तैराक (कुंडलिया)
Ravi Prakash
झकझोरती दरिंदगी
झकझोरती दरिंदगी
Dr. Harvinder Singh Bakshi
पूरी कर  दी  आस  है, मोदी  की  सरकार
पूरी कर दी आस है, मोदी की सरकार
Anil Mishra Prahari
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
✍️हे बेबी!गंगा में नाव पर बैठकर,जप ले नमः शिवाय✍️
✍️हे बेबी!गंगा में नाव पर बैठकर,जप ले नमः शिवाय✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2793. *पूर्णिका*
2793. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सबने सब कुछ लिख दिया, है जीवन बस खेल।
सबने सब कुछ लिख दिया, है जीवन बस खेल।
Suryakant Dwivedi
** चिट्ठी आज न लिखता कोई **
** चिट्ठी आज न लिखता कोई **
surenderpal vaidya
!! राम जीवित रहे !!
!! राम जीवित रहे !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
ऋचा पाठक पंत
नाक पर दोहे
नाक पर दोहे
Subhash Singhai
सकारात्मक पुष्टि
सकारात्मक पुष्टि
पूर्वार्थ
जब हम सोचते हैं कि हमने कुछ सार्थक किया है तो हमें खुद पर गर
जब हम सोचते हैं कि हमने कुछ सार्थक किया है तो हमें खुद पर गर
Lalit Kumar Sharma
ऐ सावन अब आ जाना
ऐ सावन अब आ जाना
Saraswati Bajpai
इक धुँधला चेहरा, कुछ धुंधली यादें।
इक धुँधला चेहरा, कुछ धुंधली यादें।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
प्रेम पर्व आया सखी
प्रेम पर्व आया सखी
लक्ष्मी सिंह
यादें
यादें
Johnny Ahmed 'क़ैस'
हम उनसे नहीं है भिन्न
हम उनसे नहीं है भिन्न
जगदीश लववंशी
■ बड़ी सीख
■ बड़ी सीख
*Author प्रणय प्रभात*
बड़ा मायूस बेचारा लगा वो।
बड़ा मायूस बेचारा लगा वो।
सत्य कुमार प्रेमी
नहीं हूँ मैं किसी भी नाराज़
नहीं हूँ मैं किसी भी नाराज़
ruby kumari
बाल नृत्य नाटिका : कृष्ण और राधा
बाल नृत्य नाटिका : कृष्ण और राधा
Dr.Pratibha Prakash
क्या करें वे लोग?
क्या करें वे लोग?
Shekhar Chandra Mitra
Loading...