Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2023 · 1 min read

*आबादी कैसे रुके, आओ करें विचार (कुंडलिया)*

आबादी कैसे रुके, आओ करें विचार (कुंडलिया)
_________________________
आबादी कैसे रुके, आओ करें विचार
वरना अपने देश का, होगा बंटाधार
होगा बंटाधार, धर्म का भेद न लाऍं
नीति-कड़े कानून, देश में लेकर आऍं
कहते रवि कविराय, सुनो होगी बर्बादी
सब संसाधन न्यून, करेगी यह आबादी
_________________________
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
प्यारी प्यारी सी
प्यारी प्यारी सी
SHAMA PARVEEN
कुछ यथार्थ कुछ कल्पना कुछ अरूप कुछ रूप।
कुछ यथार्थ कुछ कल्पना कुछ अरूप कुछ रूप।
Mahendra Narayan
हार से भी जीत जाना सीख ले।
हार से भी जीत जाना सीख ले।
सत्य कुमार प्रेमी
न मुझको दग़ा देना
न मुझको दग़ा देना
Monika Arora
****** मन का मीत  ******
****** मन का मीत ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"प्रेमको साथी" (Premko Sathi) "Companion of Love"
Sidhartha Mishra
संचित सब छूटा यहाँ,
संचित सब छूटा यहाँ,
sushil sarna
वो लुका-छिपी वो दहकता प्यार—
वो लुका-छिपी वो दहकता प्यार—
Shreedhar
✍🏻 #ढीठ_की_शपथ
✍🏻 #ढीठ_की_शपथ
*प्रणय प्रभात*
20)”“गणतंत्र दिवस”
20)”“गणतंत्र दिवस”
Sapna Arora
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
gurudeenverma198
बहुत कीमती है पानी,
बहुत कीमती है पानी,
Anil Mishra Prahari
🙏आप सभी को सपरिवार
🙏आप सभी को सपरिवार
Neelam Sharma
मंजिल
मंजिल
Kanchan Khanna
ज़िंदगी ऐसी
ज़िंदगी ऐसी
Dr fauzia Naseem shad
जीवन सुंदर गात
जीवन सुंदर गात
Kaushlendra Singh Lodhi Kaushal
याद दिल में जब जब तेरी आईं
याद दिल में जब जब तेरी आईं
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
"मेरे हमसफर"
Ekta chitrangini
ओ दूर के मुसाफ़िर....
ओ दूर के मुसाफ़िर....
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वह कौन सा नगर है ?
वह कौन सा नगर है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बोलना खटकता है ! दुनिया को खामोश हुआ, जबसे, कोई शिकवा नहीं ।
बोलना खटकता है ! दुनिया को खामोश हुआ, जबसे, कोई शिकवा नहीं ।
पूर्वार्थ
सुबह-सुबह उठ जातीं मम्मी (बाल कविता)
सुबह-सुबह उठ जातीं मम्मी (बाल कविता)
Ravi Prakash
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
Srishty Bansal
Exploring the Vast Dimensions of the Universe
Exploring the Vast Dimensions of the Universe
Shyam Sundar Subramanian
खूबसूरती
खूबसूरती
Ritu Asooja
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हे मन
हे मन
goutam shaw
........,?
........,?
शेखर सिंह
देश का वामपंथ
देश का वामपंथ
विजय कुमार अग्रवाल
देखते देखते मंज़र बदल गया
देखते देखते मंज़र बदल गया
Atul "Krishn"
Loading...