Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2023 · 1 min read

बुरा वक्त

आप बुरे हो नहीं,अभी तो बुरा वक्त है ।
धैर्य धारण कीजिये,ये वक्त यदि सख्त है।
छोड़ दुनिया की फिकर, खुद से प्यार कीजिये-
नारी रूप तो सदा,खुद में ही सशक्त है।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

5 Likes · 1 Comment · 430 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
गुरूर चाँद का
गुरूर चाँद का
Satish Srijan
तारों के मोती अम्बर में।
तारों के मोती अम्बर में।
Anil Mishra Prahari
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Sakshi Tripathi
इज़हार ए मोहब्बत
इज़हार ए मोहब्बत
Surinder blackpen
सबसे बड़े लोकतंत्र के
सबसे बड़े लोकतंत्र के
*Author प्रणय प्रभात*
लतिका
लतिका
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शिखर पर पहुंचेगा तू
शिखर पर पहुंचेगा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कृतज्ञता
कृतज्ञता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खुद से ही बातें कर लेता हूं , तुम्हारी
खुद से ही बातें कर लेता हूं , तुम्हारी
श्याम सिंह बिष्ट
मकसद ......!
मकसद ......!
Sangeeta Beniwal
कोशिश
कोशिश
विजय कुमार अग्रवाल
मां की ममता जब रोती है
मां की ममता जब रोती है
Harminder Kaur
23/177.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/177.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुन्दर सलोनी
सुन्दर सलोनी
जय लगन कुमार हैप्पी
अजीब शौक पाला हैं मैने भी लिखने का..
अजीब शौक पाला हैं मैने भी लिखने का..
शेखर सिंह
तुम्हारी हँसी......!
तुम्हारी हँसी......!
Awadhesh Kumar Singh
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
DrLakshman Jha Parimal
चलते जाना
चलते जाना
अनिल कुमार निश्छल
सन् २०२३ में,जो घटनाएं पहली बार हुईं
सन् २०२३ में,जो घटनाएं पहली बार हुईं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गठबंधन INDIA
गठबंधन INDIA
Bodhisatva kastooriya
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
आचार्य वृन्दान्त
Bundeli Doha-Anmane
Bundeli Doha-Anmane
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सभी कहें उत्तरांचली,  महावीर है नाम
सभी कहें उत्तरांचली, महावीर है नाम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम कौतुक-408💐
💐प्रेम कौतुक-408💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नववर्ष।
नववर्ष।
Manisha Manjari
*बुखार ही तो है (हास्य व्यंग्य)*
*बुखार ही तो है (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
फितरत
फितरत
umesh mehra
सत्यं शिवम सुंदरम!!
सत्यं शिवम सुंदरम!!
ओनिका सेतिया 'अनु '
टूटे बहुत है हम
टूटे बहुत है हम
The_dk_poetry
.
.
Ms.Ankit Halke jha
Loading...