Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2022 · 2 min read

आप तो आप ही हैं

आपका क्या कहना, आप तो आप हैं
दिखते भी बड़े पाक साफ हैं
आपको देखते ही, भ़ष्टाचार का भूत भाग गया
ईमानदारी का हरीशचंद्र, दिल्ली में जाग गया
आपके पीछे पीछे, पंजाब तक पहुंच गया
पंजाब में भी भ़ष्टाचार मिट गया,करतब पूरे मीडिया में छा गया
जब भी टी बी खोलो,आप ही आप दिखते हैं
अखबारों में आपके चमत्कार छपते हैं
काम करोड़ का,बताने में बीस करोड़ लगते हैं
धन्य है आप की बलिहारी है,प़चार आप का माल सरकारी है
बाह बाह भाई साहब, आप बड़े चमत्कारी हैं
बिजली पानी गाड़ी सब फ़ी, कितने परोपकारी हैं
धन्य हो भाई साहब, न न करते हुए आपने सब कुछ ले लिया
आपने तो बंगले की जगह बड़ा सा महल ले लिया
गाड़ियों की तो छोड़िए भाई साहब,जेट को स्कूटर कर दिया
सुना है उसमें, बड़ा सा स्वीमिंगपूल बनबा लिया
सही बात है भाई साहब,
आप आम आदमी का बहुत काम करते हैं
हार थक कर स्वीमिंगपूल में पड़े रहते हैं
अब इतनी हाड़ तोड़ मेहनत का इतना तो बनता है
विरोधी कुछ भी कहें, राजनीति में सब चलता है
अरे हां भाई साहब,लोग लोकपाल की बात करते हैं
सात साल से नहीं बना, शिकायत करते हैं
आम जन विरोधियों के अड़ंगे कहां समझते हैं
पर आप तो बड़े समझदार हैं,लोक पाल मत बनाइए
लोगों को चिल्लाने दीजिए, आप तो बिंदास चलाइए
लोग तो हमेशा अच्छे कामों में टांग अड़ाते हैं
खामहखां जांचों में उलझाते हैं
टी बी अखबार आपके चमत्कारी कारनामे दिखा रहे हैं
अरे साहब आपका क्या कहना, आप तो आप ही हैं
आपके कुर्सी पर बैठते ही,भ़ष्टाचार छू मंतर
सारी समस्याएं जड़ से खत्म,कथनी करनी में नहीं है अंतर
आपके आते ही बीमारियां भाग जाती हैं
मोहल्ला क्लीनिक में बड़ी बड़ी ठीक हो जातीं
आप कौंनसा जानते हैं जादू मंतर
आपका क्या कहना, आप तो आप ही हैं
आपके आते ही, पंजाब ठीक हो गया
भगबंत मान जी,पूरे देश में दिख गया
आपके विज्ञापनों से,सारा देश भर गया
आपका सारा काम, विज्ञापन से ही हो जाता है
आपको कोई अलादीन का चिराग मिल गया
अब आप पूरे देश पर मार दीजिए जादू मंतर
चला दीजिए घोड़ों की जगह खच्चर
सबको बर्लड क्लास शिक्षा स्वास्थ्य रोजगार
रहने को बर्लड क्लास हाई फाई आबास
चलने को हबाई जहाज
क्योंकि आप नहीं करते अमीर गरीब में अंतर
जो सुबिधाएं आप को मिल रहीं हैं
ख़बरें छन छन कर आ रहीं हैं
हम सब भी लालायित हैं
सबको दे दीजिए, थोड़ा जल्दी कीजिए
खत्म न हो जाए जादू का असर
क्योंकि आप तो आप हैं, करते नहीं पाप हैं
पर सोचिए जनाब, जल्दी पूरा करो आम जन ख्वाब
कहीं हो न जाना वे नक़ाब
इससे पहले मंतर मार दीजिए
दिल्ली पंजाब क्या पूरे मुल्क पर राज कीजिए
क्योंकि आप तो आप ही हैं
दिखते बड़े पाक साफ हैं
जलाइए विज्ञापन का चिराग, लगा दीजिए आग
लूट लीजिए फिर से कोई बड़ा बाग
क्योंकि आप तो आप ही हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 536 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
नया साल
नया साल
अरशद रसूल बदायूंनी
💃युवती💃
💃युवती💃
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
ସଦାଚାର
ସଦାଚାର
Bidyadhar Mantry
- अब नहीं!!
- अब नहीं!!
Seema gupta,Alwar
सौगंध से अंजाम तक - दीपक नीलपदम्
सौगंध से अंजाम तक - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
क्या ईसा भारत आये थे?
क्या ईसा भारत आये थे?
कवि रमेशराज
★HAPPY FATHER'S DAY ★
★HAPPY FATHER'S DAY ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
शेर ग़ज़ल
शेर ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तोड़ सको तो तोड़ दो ,
तोड़ सको तो तोड़ दो ,
sushil sarna
चंदा मामा और चंद्रयान
चंदा मामा और चंद्रयान
Ram Krishan Rastogi
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Manisha Manjari
मरने के बाद भी ठगे जाते हैं साफ दामन वाले
मरने के बाद भी ठगे जाते हैं साफ दामन वाले
Sandeep Kumar
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
यादों के गुलाब
यादों के गुलाब
Neeraj Agarwal
स्वयं को सुधारें
स्वयं को सुधारें
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*चुप रहने की आदत है*
*चुप रहने की आदत है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सामाजिक रिवाज
सामाजिक रिवाज
अनिल "आदर्श"
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
Dr MusafiR BaithA
मन तो मन है
मन तो मन है
Pratibha Pandey
तेरी नियत में
तेरी नियत में
Dr fauzia Naseem shad
चंद अश'आर ( मुस्कुराता हिज्र )
चंद अश'आर ( मुस्कुराता हिज्र )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
दोस्तों की महफिल में वो इस कदर खो गए ,
दोस्तों की महफिल में वो इस कदर खो गए ,
Yogendra Chaturwedi
I'm a basket full of secrets,
I'm a basket full of secrets,
Sukoon
बसंत
बसंत
manjula chauhan
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
देखता हूँ बार बार घड़ी की तरफ
देखता हूँ बार बार घड़ी की तरफ
gurudeenverma198
"बूढ़ा" तो एक दिन
*Author प्रणय प्रभात*
3165.*पूर्णिका*
3165.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
***होली के व्यंजन***
***होली के व्यंजन***
Kavita Chouhan
Loading...