Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2023 · 1 min read

ईश्वर की महिमा……..….. देवशयनी एकादशी

श्री हरि नारायण नारायण

देव शयनी एकादशी को भगवान विष्णु चार महीने के लिए सो गए।….. ‌‌‌……आओ पढ़े
अब सृष्टि परेशान मुझे कौन संभालेगा।
चार दिन बाद ही आई गुरु पूर्णिमा
गुरुदेव चार दिन संभालते हैं।
अगले ही दिन श्रावण लग गया
भगवान शिव ने एक महीने संभाल लिया।
फिर आया भाद्रपद
भगवान कृष्ण जन्माष्टमी आ गई।
भाद्रपद के 19 दिन संभाला भगवान कृष्ण ने
फिर आई गणेश चतुर्थी
दस दिन गणेश जी ने संभाल लिया।
उसके बाद 16 दिन पितृदेवों ने संभाल लिया सृष्टि को।
फिर आ गए
नवरात्रि
मां अम्बे गौरी दुर्गा ने दस दिन संभाल लिया सृष्टि का कार्यभार संभाला
फिर शुरू हुए दीवाली के 20 दिन
मां लक्ष्मी ने संभाल लिया सृष्टि को

दीवाली के बाद दस दिन संभाला कुबेर जी ने
और फिर आई देव उठनी एकादशी
भगवान विष्णु निद्रा से जाग
सृष्टि का कार्यभार संभाल लेते हैं

सच हैं न सनातन धर्म की अद्भुत व्यवस्था का सहयोग और आशाएं..… ‌‌

हरि बोल नमो नारायण नारायण हरि हरि

Language: Hindi
Tag: लेख
314 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई ऐसा बोलता है की दिल में उतर जाता है
कोई ऐसा बोलता है की दिल में उतर जाता है
कवि दीपक बवेजा
अपनों की भीड़ में भी
अपनों की भीड़ में भी
Dr fauzia Naseem shad
क्रांतिवीर नारायण सिंह
क्रांतिवीर नारायण सिंह
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रावण
रावण
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
बेटी आएगी, तो खुशियां लाएगी।
बेटी आएगी, तो खुशियां लाएगी।
Rajni kapoor
करोगे रूह से जो काम दिल रुस्तम बना दोगे
करोगे रूह से जो काम दिल रुस्तम बना दोगे
आर.एस. 'प्रीतम'
"शोर"
Dr. Kishan tandon kranti
आलसी व्यक्ति
आलसी व्यक्ति
Paras Nath Jha
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़
Rj Anand Prajapati
कोशिश करना छोड़ो मत,
कोशिश करना छोड़ो मत,
Ranjeet kumar patre
वो नेमतों की अदाबत है ज़माने की गुलाम है ।
वो नेमतों की अदाबत है ज़माने की गुलाम है ।
Phool gufran
जीवन दर्शन मेरी नजर से ...
जीवन दर्शन मेरी नजर से ...
Satya Prakash Sharma
■ सामयिक / रिटर्न_गिफ़्ट
■ सामयिक / रिटर्न_गिफ़्ट
*Author प्रणय प्रभात*
No battles
No battles
Dhriti Mishra
23/53.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/53.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कर्मों के परिणाम से,
कर्मों के परिणाम से,
sushil sarna
💐प्रेम कौतुक-362💐
💐प्रेम कौतुक-362💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
निर्जन पथ का राही
निर्जन पथ का राही
नवीन जोशी 'नवल'
वो भ्रम है वास्तविकता नहीं है
वो भ्रम है वास्तविकता नहीं है
Keshav kishor Kumar
उफ़ वो उनकी कातिल भरी निगाहें,
उफ़ वो उनकी कातिल भरी निगाहें,
Vishal babu (vishu)
আজ রাতে তোমায় শেষ চিঠি লিখবো,
আজ রাতে তোমায় শেষ চিঠি লিখবো,
Sakhawat Jisan
गुरु
गुरु
Kavita Chouhan
फीके फीके रंग हैं, फीकी फ़ाग फुहार।
फीके फीके रंग हैं, फीकी फ़ाग फुहार।
Suryakant Dwivedi
बाट का बटोही ?
बाट का बटोही ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
झोली फैलाए शामों सहर
झोली फैलाए शामों सहर
नूरफातिमा खातून नूरी
तो अब यह सोचा है मैंने
तो अब यह सोचा है मैंने
gurudeenverma198
हास्य कुंडलियाँ
हास्य कुंडलियाँ
Ravi Prakash
काव्य
काव्य
साहित्य गौरव
डरो नहीं, लड़ो
डरो नहीं, लड़ो
Shekhar Chandra Mitra
Loading...