Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2016 · 1 min read

आपसे हूँ

आपसे हूँ अब गुलजार खुदा जाने क्यों
हर बुरे वक्त तू आधार खुदा जाने क्यों

लाड़ मेरे अन्दर था निकला वो वाहर
हो गयी है दिल की हार खुदा जाने क्यों

पास वो आकर बातें जब करता मीठी
है बढी धड़कन रफ्तार खुदा जाने क्यों

साथ मेरे बन छाया चलता वो हर पल
हो गया जीवन सार खुदा जाने क्यों

कट रहे है दिन अवसाद भरे क्यों मेरे
आज महका फिर परिवार खुदा जानें क्यों

हो गयी कोन खता जो हमसे है तू खफा
फूल ही ये हुए अंगार खुदा जाने क्यों

प्रीत की रीत निभा वो बन जाते मेरे
मन गया ही अब त्यौहार खुदा जाने क्यों

सोचती ही रहती मैं मिलने आऊँगी
काम का है बस अम्बार खुदा जाने क्यो

खूब करती मनमानी अपनी तो मैं यूँ
इसलि ये प्यार भरी फटकार खुदा जाने क्यों

70 Likes · 489 Views
You may also like:
अब हमें ख़्वाब
Dr fauzia Naseem shad
मजबूर हूँ मज़दूर हूँ..
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
बढ़ते जाना है
surenderpal vaidya
दफन
Dalveer Singh
सुनती नहीं तुम
शिव प्रताप लोधी
*अग्रसेन को नमन (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
देर
पीयूष धामी
बाल विवाह
Utkarsh Dubey “Kokil”
✍️कैसी खुशनसीबी ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
ख्वाहिश है।
Taj Mohammad
” हृदय से ना जुड़ सके तो मित्र कैसे रह...
DrLakshman Jha Parimal
प्रकृति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
सुविधा भोगी कायर
Shekhar Chandra Mitra
✍️सियासत का है कारोबार
'अशांत' शेखर
🚩 वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अभी अभी की बात है
कवि दीपक बवेजा
Prayer to the God
Buddha Prakash
आत्मसम्मान
Versha Varshney
दास्तां-ए-दर्द
Seema 'Tu hai na'
मोहिनी
लक्ष्मी सिंह
■ शर्मनाक हालात
*Author प्रणय प्रभात*
महापंडित ठाकुर टीकाराम 18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित
श्रीहर्ष आचार्य
समय और मेहनत
Anamika Singh
लोग आपन त सभे कहाते नू बा
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
जीवन का इक आइना, होते अपने कर्म
Dr Archana Gupta
प्रेम रस रिमझिम बरस
श्री रमण 'श्रीपद्'
भ्रष्टाचार पर कुछ पंक्तियां
Ram Krishan Rastogi
प्रेम गीत
Harshvardhan "आवारा"
नववर्ष 2023
Vindhya Prakash Mishra
Loading...