Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Dec 2022 · 1 min read

आने वाला कल दुनिया में, मुसीबतों का कल होगा

आने वाला कल दुनिया में, मुसीबतों का कल होगा
नहीं मिलेगा पीने पानी , नहीं अन्न फल होगा
जीवन पर संकट के बादल, संघर्ष यहां पल पल होगा
पर्यावरण क्षरण के कारण,ताप से बहुत विकल होगा
चारों ओर अनल होगी, लपटों में विश्व सकल होगा
कहीं रेगिस्तान धरा पर, कहीं भरा जल होगा
नहीं रहेंगे जीव धरा पर,भरा हलाहल होगा
वीता कल अतीत हो गया, वर्तमान भी वीत रहा
आने वाला कल कैसा होगा, नहीं अतीत से सीख रहा
जल जंगल जमीन धरा पर, तेजी से सब सिकुड़ रहे
प्रदूषण बढ़ रहा धरा पर, मौसम के तेवर बदल रहे
कहीं हाड़ कंपाती सर्दी है, कहीं गर्मी बहुत सताती है
वेमौसम पानी पड़ रहा धरा पर, आंधी तट बंध ढहाती
तूफानों का जोर जग में, जन धन हानि हो जाती
लगी विकास की होड़ ,सब अंधे हो कर भाग रहे
जल जंगल जमीन का दोहन, पर्यावरण विगाड़ रहे
जैवविविधता खत्म हुई, जीवों का नामोनिशान मिटा
विन सोचे समझे, जीवन का रहा अस्तित्व मिटा
अंधे होकर गर चलेगी दुनिया, महाप्रलय आ जाएगी
जलवायु परिवर्तन से, मानवता संकट में आ जाएगी
आने वाला कल दुनिया में, मुसीबतों का कल होगा
नहीं मिलेगा पीने पानी , नहीं अन्न और फल होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

2 Likes · 237 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
.
.
Ragini Kumari
अंग अंग में मारे रमाय गयो
अंग अंग में मारे रमाय गयो
Sonu sugandh
कोई किसी से सुंदरता में नहीं कभी कम होता है
कोई किसी से सुंदरता में नहीं कभी कम होता है
Shweta Soni
तू है जगतजननी माँ दुर्गा
तू है जगतजननी माँ दुर्गा
gurudeenverma198
खुद की अगर खुद से
खुद की अगर खुद से
Dr fauzia Naseem shad
*SPLIT VISION*
*SPLIT VISION*
Poonam Matia
मानवता और जातिगत भेद
मानवता और जातिगत भेद
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
2505.पूर्णिका
2505.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*आवारा कुत्तों की समस्या: नगर पालिका रामपुर द्वारा आवेदन का
*आवारा कुत्तों की समस्या: नगर पालिका रामपुर द्वारा आवेदन का
Ravi Prakash
फूल ही फूल
फूल ही फूल
shabina. Naaz
"किसी की याद मे आँखे नम होना,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
पतंग
पतंग
अलका 'भारती'
"झूठी है मुस्कान"
Pushpraj Anant
वोट का लालच
वोट का लालच
Raju Gajbhiye
नज़्म - झरोखे से आवाज
नज़्म - झरोखे से आवाज
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
"तब तुम क्या करती"
Lohit Tamta
*तुम न आये*
*तुम न आये*
Kavita Chouhan
"चित्तू चींटा कहे पुकार।
*Author प्रणय प्रभात*
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
Sapna Arora
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
गुप्तरत्न
नाम सुनाता
नाम सुनाता
Nitu Sah
चिड़िया!
चिड़िया!
सेजल गोस्वामी
बड़ी बात है ....!!
बड़ी बात है ....!!
हरवंश हृदय
माँ का अबोला / मुसाफ़िर बैठा
माँ का अबोला / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
बेटियां
बेटियां
Neeraj Agarwal
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
कृष्णकांत गुर्जर
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
देख तो ऋतुराज
देख तो ऋतुराज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कहे स्वयंभू स्वयं को ,
कहे स्वयंभू स्वयं को ,
sushil sarna
Loading...