Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

आनंद

मृत्यु का हो जिसे भय,
जीवन का आनंद वह कैसे ले। जीने की जिसे अधिक हो चाहा, वह अपने लिए जिए।
दोनों में जो संतुलन कर रखें,
वह जीवन का आनंद लें।
प्रथम डर से मदद दान पुण्य पूजा करें,
दूजा मदद दान पुण्य पूजा से बचें। तीजा शकुन आनंद के लिए,
मदद दान पुण्य पूजा करें।
जग में कोई नहीं ऐसा,
जो जीवन का आनंद लेने का यत्न ना करें।
परंतु जीवन मरण के जाल से बचने का कोई प्रयत्न ना करें।
बस सब जीवन का आनंद पाने का प्रतिदिन हर क्षण जतन करें, चाहे दूजा कोई मरे या जिए।
जब सब प्राणी परमात्मा से मिले, तो मोक्ष प्राप्ति वाला ही परमात्मा की पहली पसंद बने।

1 Like · 311 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नादान पक्षी
नादान पक्षी
Neeraj Agarwal
सुस्ता लीजिये थोड़ा
सुस्ता लीजिये थोड़ा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बचपन
बचपन
Shyam Sundar Subramanian
3126.*पूर्णिका*
3126.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
थक गई हूं
थक गई हूं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Dear  Black cat 🐱
Dear Black cat 🐱
Otteri Selvakumar
जीवन वो कुरुक्षेत्र है,
जीवन वो कुरुक्षेत्र है,
sushil sarna
जागी जवानी
जागी जवानी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
इधर उधर न देख तू
इधर उधर न देख तू
Shivkumar Bilagrami
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
सभी गम दर्द में मां सबको आंचल में छुपाती है।
सभी गम दर्द में मां सबको आंचल में छुपाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
"सपनों में"
Dr. Kishan tandon kranti
खुद पर यकीन,
खुद पर यकीन,
manjula chauhan
न‌ वो बेवफ़ा, न हम बेवफ़ा-
न‌ वो बेवफ़ा, न हम बेवफ़ा-
Shreedhar
प्रेम भरी नफरत
प्रेम भरी नफरत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हुकुम की नई हिदायत है
हुकुम की नई हिदायत है
Ajay Mishra
रखें बड़े घर में सदा, मधुर सरल व्यवहार।
रखें बड़े घर में सदा, मधुर सरल व्यवहार।
आर.एस. 'प्रीतम'
*क्या हुआ आसमान नहीं है*
*क्या हुआ आसमान नहीं है*
Naushaba Suriya
असोक विजयदसमी
असोक विजयदसमी
Mahender Singh
डा. तुलसीराम और उनकी आत्मकथाओं को जैसा मैंने समझा / © डा. मुसाफ़िर बैठा
डा. तुलसीराम और उनकी आत्मकथाओं को जैसा मैंने समझा / © डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
उड़े  हैं  रंग  फागुन के  हुआ रंगीन  है जीवन
उड़े हैं रंग फागुन के हुआ रंगीन है जीवन
Dr Archana Gupta
*सहायता प्राप्त विद्यालय : हानि और लाभ*
*सहायता प्राप्त विद्यालय : हानि और लाभ*
Ravi Prakash
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
Manisha Manjari
चाँद से बातचीत
चाँद से बातचीत
मनोज कर्ण
अलविदा
अलविदा
Dr fauzia Naseem shad
न कोई काम करेंगें,आओ
न कोई काम करेंगें,आओ
Shweta Soni
★गैर★
★गैर★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
💐प्रेम कौतुक-169💐
💐प्रेम कौतुक-169💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अकथ कथा
अकथ कथा
Neelam Sharma
हर सीज़न की
हर सीज़न की
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...