Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

आदमी

“खुद से है बेखबर होशियार आदमी,
होड़ की दौड़ में है हजार आदमी।
“संग अपने पराये चले हर डगर,
फिर भी तन्हाइयों का शिकार आदमी।
महफिलों में कभी तनहा कभी,
ढूंढता ही यूँ रहता करार आदमी।
खुद के ही घर में अपनों से मतभेद कर,
नीव में घर की डाले दरार आदमी।
खुद है मुंशी भले बुरे कर्म का,
फिर खुद से गया हर बार हार आदमी।
दोष देता है तक़दीर को दर्द का,
बस खता पे न करता विचार आदमी।
जिंदगी ये हंसी मात-पिता ने दी,
उन का रहता सदा कर्जदार आदमी।
खिल के फिर मुस्कुराने लगे ये धरा,
बन जो जाये यहाँ सब उदार आदमी।
;रजनी:::

2 Comments · 464 Views
You may also like:
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
तुम साथ अगर देते नाकाम नहीं होता
Dr Archana Gupta
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बाबू जी
Anoop Sonsi
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
परखने पर मिलेगी खामियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
कर्म का मर्म
Pooja Singh
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...