Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2017 · 1 min read

आदमी में गांव

किसी पुरानी किताब
के कई छुटे पन्ने धुमिल
स्याही के आखरों जैसे
क्ई गांव बुड़ा गये और
कुछ पलायन में खो गये,
व निगल गयी आधुनिकता !
सही में विकास की राह
कई बार बेमानी होती है
सीधे सरल लोग जो हैं
गुम  जाते व खो जाते हैं
और कौन न रिझेगा सपने सरीखी
बातों से, गर पढ लिख जायेंगें !
पुराने बुढे गांव भी एकबार
पहल कर जायेंगें, यदि
भुल से कदम बढ जाते
उन पगडंडियों में कभी
तो टुटे बचे अवशेष आज
कई कहानियां कहती हैं !
कहीं मौन सहमति में लोग
अनायास आज को गले
लगाने के हौसले बस
चाहे अनचाहे ही सही
अब बुलंद कर रहे हैं
मन के लिबास बदल रहे हैं !
बस बातों में गावं कभी
राजनीति ,कभी  धर्म  में,
बजट पालिसी के पन्नों
व विकास की भाषा से
गरीब की पीठ में चने भुनते
बड़े ही फल फूल रहे हैं !
जहां मिट्टी कुरेदो उधर एक
नया उगता नेता,और पद हैं,
पदों की  चाह राह में वादे 
फिर विकास टटोलता आदम
ऐसे ही गांव में कहीं आदमी
आदमी में गांव शायद बचा है !!!!!!

नीलम  “नील” Date 7.10.16

Language: Hindi
345 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*** आकांक्षा : एक पल्लवित मन...! ***
*** आकांक्षा : एक पल्लवित मन...! ***
VEDANTA PATEL
मतलबी इंसान हैं
मतलबी इंसान हैं
विक्रम कुमार
शून्य हो रही संवेदना को धरती पर फैलाओ
शून्य हो रही संवेदना को धरती पर फैलाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Lately, what weighs more to me is being understood. To be se
Lately, what weighs more to me is being understood. To be se
पूर्वार्थ
आश्रित.......
आश्रित.......
Naushaba Suriya
हिंदी - दिवस
हिंदी - दिवस
Ramswaroop Dinkar
गीत प्यार के ही गाता रहूं ।
गीत प्यार के ही गाता रहूं ।
Rajesh vyas
محبّت عام کرتا ہوں
محبّت عام کرتا ہوں
अरशद रसूल बदायूंनी
शाकाहारी बने
शाकाहारी बने
Sanjay ' शून्य'
मोहब्बत का ज़माना आ गया है
मोहब्बत का ज़माना आ गया है
Surinder blackpen
आप सच बताइयेगा
आप सच बताइयेगा
शेखर सिंह
"ऐतबार"
Dr. Kishan tandon kranti
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दोहा पंचक. . . . प्रेम
दोहा पंचक. . . . प्रेम
sushil sarna
👰🏾‍♀कजरेली👰🏾‍♀
👰🏾‍♀कजरेली👰🏾‍♀
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
भाषण अब कैसे रूके,पॉंचों साल चुनाव( कुंडलिया)
भाषण अब कैसे रूके,पॉंचों साल चुनाव( कुंडलिया)
Ravi Prakash
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
"अपनी करतूत की होली जलाई जाती है।
*Author प्रणय प्रभात*
"प्यार तुमसे करते हैं "
Pushpraj Anant
करता नहीं यह शौक तो,बर्बाद मैं नहीं होता
करता नहीं यह शौक तो,बर्बाद मैं नहीं होता
gurudeenverma198
अब तो उठ जाओ, जगाने वाले आए हैं।
अब तो उठ जाओ, जगाने वाले आए हैं।
नेताम आर सी
3189.*पूर्णिका*
3189.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दाढ़ी-मूँछ धारी विशिष्ट देवता हैं विश्वकर्मा और ब्रह्मा
दाढ़ी-मूँछ धारी विशिष्ट देवता हैं विश्वकर्मा और ब्रह्मा
Dr MusafiR BaithA
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
Sûrëkhâ
हौसला देने वाले अशआर
हौसला देने वाले अशआर
Dr fauzia Naseem shad
सृजन के जन्मदिन पर
सृजन के जन्मदिन पर
Satish Srijan
चलो...
चलो...
Srishty Bansal
जीवन की यह झंझावातें
जीवन की यह झंझावातें
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
आदर्श
आदर्श
Bodhisatva kastooriya
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
Dr Tabassum Jahan
Loading...