Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 7, 2022 · 1 min read

आदमी आदमी से डरने लगा है

आदमी आदमी से डरने लगा है
हर घड़ी आहें बस भरने लगा है
दुविधा पल रही सबके दिलों में
मरने की ख्वाहिश करने लगा है
आदमी आदमी से…………..
पहले जैसी बात नहीं अब
पहले से हालात नहीं अब
हर कोई दिल से उतरने लगा है
आदमी आदमी से…………..
जीवन से अब मोह कहाँ है
मन उद्विग्न जैसे हो रहा है
पल पल आदमी मरने लगा है
आदमी आदमी से…. ……….
अजब हो गई दूनियादारी
रिश्ते बन गए अब लाचारी
अपनों पर ही शक करने लगा है
आदमी आदमी से…………..
इसने मारा या उसने मारा
कहाँ रहा देखो भाई चारा
“विनोद”दर्दे दिल उभरने लगा है
आदमी आदमी से…………….
………………….(विडम्बना)

स्वरचित:- विनोद चौहान

2 Likes · 2 Comments · 175 Views
You may also like:
अशांत मन
Mahender Singh Hans
*स्वर्गीय कैलाश चंद्र अग्रवाल की काव्य साधना में वियोग की...
Ravi Prakash
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
ये दिल क्या करे।
Taj Mohammad
दिल के रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
अपने दिल से
Dr fauzia Naseem shad
आप कौन है
Sandeep Albela
गम होते हैं।
Taj Mohammad
जय जय तिरंगा
gurudeenverma198
में और मेरी बुढ़िया
Ram Krishan Rastogi
अपनी कहानी
Dr.Priya Soni Khare
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
बच्चों को खूब लुभाते आम
Ashish Kumar
ग़ज़ल- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गरीब की बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
*बहू- बेटी- तलाक* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
ऐसे ना करें कुर्बानी हम
gurudeenverma198
वो हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
क्या सोचता हूँ मैं भी
gurudeenverma198
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
ये खुशी
Anamika Singh
🌺प्रेमस्य रसः ज्ञानस्य रसेण बहु विलक्षणं🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️ये केवल संकलन है,पाठकों के लिये प्रस्तुत
'अशांत' शेखर
पग पग में विश्वास
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
देश की रक्षा करें हम
Swami Ganganiya
एक तिरंगा मुझको ला दो
लक्ष्मी सिंह
जिंदा है।
Taj Mohammad
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
#आर्या को जन्मदिन की बधाई#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
Loading...