Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Dec 2023 · 1 min read

*आत्महत्या*

सोचती हूँ, क्या वाकई आत्महत्या नाम की
कोई चीज होती भी है? या नहीं ?
क्योंकि अक्सर देखा है मैंने
हर आत्महत्या के पीछे एक कारण और
उस कारण के पीछे कोई व्यक्ति ।

चाहे बोर्ड में अच्छे नंबर लाना हो या
उतरना हो खरा किसी अपने की उम्मीदों पर,
किसी अपने ने दिल तोड़ा हो या
किसी ने कर दी हो जिदंगी को
मौत से भी बदतर,
कोई-न-कोई कारण तो होता है
की गई हर आत्महत्या के पीछे
और इन कारणों के केन्द्र में होता है
कोई व्यक्ति , कोई समाज या कोई संस्था ।

अगर होती कोई व्यवस्था पढ़ने की
किसी के अंतर्मन को ,
यकीन मानिए कानून की बही में दर्ज हत्यारों से
कहीं ज्यादा हत्यारे दर्ज मिलते
इन आत्महत्या करने वालों के अंतर्मन की बही पर ।

4 Likes · 4 Comments · 152 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Peace peace
Peace peace
Poonam Sharma
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
संजीव शुक्ल 'सचिन'
इज़हार ए मोहब्बत
इज़हार ए मोहब्बत
Surinder blackpen
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
Acharya Rama Nand Mandal
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिन पांवों में जन्नत थी उन पांवों को भूल गए
जिन पांवों में जन्नत थी उन पांवों को भूल गए
कवि दीपक बवेजा
मन ही मन में मुस्कुराता कौन है।
मन ही मन में मुस्कुराता कौन है।
surenderpal vaidya
जो भी मिलता है उससे हम
जो भी मिलता है उससे हम
Shweta Soni
#चाकलेटडे
#चाकलेटडे
सत्य कुमार प्रेमी
जब याद मैं आऊंँ...
जब याद मैं आऊंँ...
Ranjana Verma
कृतज्ञता
कृतज्ञता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
!! कुछ दिन और !!
!! कुछ दिन और !!
Chunnu Lal Gupta
तीजनबाई
तीजनबाई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आधुनिक युग और नशा
आधुनिक युग और नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दोस्त ना रहा ...
दोस्त ना रहा ...
Abasaheb Sarjerao Mhaske
कुछ लोग घूमते हैं मैले आईने के साथ,
कुछ लोग घूमते हैं मैले आईने के साथ,
Sanjay ' शून्य'
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
आर.एस. 'प्रीतम'
ती सध्या काय करते
ती सध्या काय करते
Mandar Gangal
मुक्तक
मुक्तक
दुष्यन्त 'बाबा'
कैसे कह दूं पंडित हूँ
कैसे कह दूं पंडित हूँ
Satish Srijan
नारी शक्ति..................
नारी शक्ति..................
Surya Barman
तलास है उस इंसान की जो मेरे अंदर उस वक्त दर्द देख ले जब लोग
तलास है उस इंसान की जो मेरे अंदर उस वक्त दर्द देख ले जब लोग
Rituraj shivem verma
💐प्रेम कौतुक-211💐
💐प्रेम कौतुक-211💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"परम्परा"
Dr. Kishan tandon kranti
आपकी खुशी
आपकी खुशी
Dr fauzia Naseem shad
24/252. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/252. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*सेवानिवृत्ति*
*सेवानिवृत्ति*
पंकज कुमार कर्ण
*डॉक्टर किशोरी लाल: एक मुलाकात*
*डॉक्टर किशोरी लाल: एक मुलाकात*
Ravi Prakash
■ #यादों_का_आईना
■ #यादों_का_आईना
*Author प्रणय प्रभात*
"भक्त नरहरि सोनार"
Pravesh Shinde
Loading...