Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2016 · 3 min read

आत्मकथा

न ये कविता है न ये कहानी है ,
ये सच्चाई है कुछ साल पुरानी है ,,
मै कन्जूश हू ,
बहुत मक्खी चूस हू ,,
कल तक गरीब था ,
अपनों के करीब था ,,
आज मै मजबूर हू ,
अपनों से दूर हू ,,
मेहनत से उठा हु ,
लगन से जुटा हु ,,
एक एक रुपय को तरशा हू ,
कल तक चाक़ू था आज फरशा हू ,,
मंदिर में माथा हमेशा झुकाता हू ,
अपनी कहानी मै तुमको सुनाता हू ,,
अपनों ने मारा था ,
गाँव में आवारा था ,,
घर से भगा था ,
स्टेसन में जगा था ,,
इस अनजान शहर में ,
मै भटकू दोपहर में ,,
न कोई सहारा था ,
न कोई हमारा था ,,
दिनभर भटकता था ,
बोलने में अटकता था ,,
बारवी फेल था ,
ये ऐसा खेल था ,,
जो समझ में न आता था ,,
एक दो दिन कुछ भी न खाता था ,,
एक दिन मै भूखा सड़क में पड़ा था ,
सिकोटी डारेक्टर अकड़ के खड़ा था ,,
उसने फिर पूछा बेटा कैसे पड़े हो ,
ऊपर से नीचे तक पतझड़ सा झड़े हो ,,
मैंने फिर अपनी कहानी सुनाई ,
तुरतै बिठाकर वो गाड़ी घुमाई ,,
ले जाकर पटका सनराईस टावर ,
बोला की देखो यहाँ तुम्हारा है पावर ,,
गेट में तुम बैठो निगरानी भी करना ,
मोटर चलाके तुम पानी भी भरना ,,
इतने में धीरे से बर्दी निकाला ,
जल्दी पहन ले तू मेरे प्यारे लाला ,,
डर के मै जल्दी से सैल्ट को लटकाया ,
इतनी बड़ी थी नीचे से पैन्ट को हटाया ,,
हुई सुबह तो एक सेठ हम पे भड़का ,
पता नहीं कहा से आया ये लड़का ,,
सोला साल का छोरा न मूछे न दाढ़ी ,
डारेक्टर भी साले ऐसे रखते अनाड़ी ,.
सोया था नीचे भला चलाया न गाड़ी ,
हमें रोते देख समझाई उसकी लाड़ी ,,
फोन लगा के डारेक्टर को चमकाया ,
किसी तरह से वो दो दिन धकाया ,,
तीसरे दिन बोला तू ले अपने पैसे ,
कुछ भी तू कर या रह चाहे जैसे ,,
मैंने कहा अंकल अपना कोई नहीं है ,
दश दिन से ये आँखे भी सोई नहीं है ,,
मैंने कसम खा के घर से हु निकला ,
चाहे मुझे जाना पड़े पूना या शिमला ,,
इतना वो सुनकर उसका दिल पिघला ,,
डाकूमेन्ट में क्या है जल्दी से दिखला ,,
दश वी की अन्कशूची मै उसको दिखाया ,
हमें पैसे कमाने के तरीके सिखाया ,,
रात में मै ड्यूटी सिकोटी की करता ,
दिन में ऑफिश की नोकरी भी करता ,,
ऐसे ही दोस्तों मै एक साल कमाया ,
मार्केट में अपनी एक इमेज बनाया ,,
पैसे जुड़े थे अड़तालिस हजार ,
उगली घुमाता उनमे बार बार ,,
सपना था मेरा खरीदेगे कार ,
मित्रों अब होगा ये सपना साकार ,,
गया घर जब अपने सब मिलने को आये ,
बैठ कर फिर उनको सच्चाई बतायें ,,
अब मै बिलकुल बदल चुका था ,
घर में केवल दश दिन रुका था ,,
साथ में अपने तीनो भाई को लाया ,
इंदौर में रहकर मै उनको पढ़ाया ,,
भाई ने मेरा प्राइवेट फॉर्म डाला ,
मै बारवी पास हुआ कालेज कर डाला ,,
दुसरे भाई का एअर फ़ोर्स में है जॉब ,
अपना भी थोड़ा सा पूरा हुआ ख्वाब ,,
तीसरे का विजनेस चौथा आर्मी में है ,
हम चारों भाई मिलजुल ख़ुशी में है ,,
फ़िलहाल सि.ए.ऑफिस में असिस्टैंट हू ,
कई साल से एक जगह परमानेन्ट हू ,,
दोस्तों मै अपनी मजाक उड़ा रहा हू ,
लगे हुए दामन में दाग छुड़ा रहा हू ,,
कवि आशीष तिवारी जुगनू
इंदौर म.प्र .
09200573071 / 08871887126

Language: Hindi
Tag: कविता
272 Views
You may also like:
मैं धरती पर नीर हूं निर्मल, जीवन मैं ही चलाता...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यादों में तेरे रहना ख्वाबों में खो जाना
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
💐💐प्रेम की राह पर-62💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मिट्टी को छोड़कर जाने लगा है
कवि दीपक बवेजा
वक्त ए मर्ग है खुद को हंसाएं कैसे।
Taj Mohammad
मजदूर भाग -दो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
गांधी के साथ हैं हम लोग
Shekhar Chandra Mitra
कौन लोग थे
Kaur Surinder
गर्दिशे दौरा को गुजर जाने दे
shabina. Naaz
Good things fall apart so that the best can come...
Manisha Manjari
*वरिष्ठ नागरिक (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
# दोस्त .....
Chinta netam " मन "
✍️✍️रूपया✍️✍️
'अशांत' शेखर
पिता
Meenakshi Nagar
एक ख़ामोशी मेरे अंदर है
Dr fauzia Naseem shad
जंजीरों मे जकड़े लोगो
विनोद सिल्ला
अगर एक बार तुम आ जाते
Ram Krishan Rastogi
मदिरा और मैं
Sidhant Sharma
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
मैं तुम पर क्या छन्द लिखूँ?
नंदन पंडित
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
तपस्या और प्रेम की साकार प्रतिमा है 'नारी'
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
"ललकारती चीख"
Dr Meenu Poonia
स्पर्धा भरी हयात
AMRESH KUMAR VERMA
प्रकृति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अधुरा सपना
Anamika Singh
Loading...