Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Aug 2023 · 1 min read

आड़ी तिरछी पंक्तियों को मान मिल गया,

आड़ी तिरछी पंक्तियों को मान मिल गया,
पाठकों के प्यार का सम्मान मिल गया।
कविता के ककहरा का न जिसे ज्ञान सृजन,
उसे भी कवि होने का निशान मिल गया।

1 Like · 2 Comments · 127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
दिल से जाना
दिल से जाना
Sangeeta Beniwal
"तेरे लिए.." ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
जो बीत गया उसे जाने दो
जो बीत गया उसे जाने दो
अनूप अम्बर
*साड़ी का पल्लू धरे, चली लजाती सास (कुंडलिया)*
*साड़ी का पल्लू धरे, चली लजाती सास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
Ram Krishan Rastogi
इतना तो आना चाहिए
इतना तो आना चाहिए
Anil Mishra Prahari
बीज और बच्चे
बीज और बच्चे
Manu Vashistha
हमनवा
हमनवा
Bodhisatva kastooriya
वक्त
वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नेता सोये चैन से,
नेता सोये चैन से,
sushil sarna
छप्पर की कुटिया बस मकान बन गई, बोल, चाल, भाषा की वही रवानी है
छप्पर की कुटिया बस मकान बन गई, बोल, चाल, भाषा की वही रवानी है
Anand Kumar
मानवता दिल में नहीं रहेगा
मानवता दिल में नहीं रहेगा
Dr. Man Mohan Krishna
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
Neelam Sharma
कहानी घर-घर की
कहानी घर-घर की
Brijpal Singh
हमने बस यही अनुभव से सीखा है
हमने बस यही अनुभव से सीखा है
कवि दीपक बवेजा
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सदपुरुष अपना कर्तव्य समझकर कर्म करता है और मूर्ख उसे अपना अध
सदपुरुष अपना कर्तव्य समझकर कर्म करता है और मूर्ख उसे अपना अध
Sanjay ' शून्य'
दलदल
दलदल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बुंदेली दोहा गरे गौ (भाग-2)
बुंदेली दोहा गरे गौ (भाग-2)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
3268.*पूर्णिका*
3268.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मजबूरी नहीं जरूरी
मजबूरी नहीं जरूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
Sandeep Kumar
🤔🤔🤔
🤔🤔🤔
शेखर सिंह
दीवार का साया
दीवार का साया
Dr. Rajeev Jain
उदास नहीं हूं
उदास नहीं हूं
shabina. Naaz
Loading...