Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2024 · 1 min read

आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।

आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
स्मृतियां अनगनित है, जिन्दगी के मीत को।।

था कभी मुरझाया फूल, आज तरो तर हो गया हूं ,
लेकिन कांटों में आज भी ,मैं कही पर खो गया है।
याद आता है मुझे,वो काल सिंह समान था,
भाग्य की विडम्बना कहूं, या कहूं की कम ज्ञान था।
भुलकर भूलू नहीं गा, मैं अपनी रीत को ।।
आज लिखने……………

विगत समय की नाजुक हालत, दृष्टि पटल पर छा गई है,
बरसाती रात क्षण-भर के लिए ,अब भी दिल पर आ गई है।
समस्त दीवारें मिल गई थी ,छत में भी हुआ छेद था,
निंद्रा में तल्लीन थे सब ,फिर मौत में क्या भेद था।
मौत से बचकर सुबह सब ,भुनाने लगे प्रीत को।।
आज लिखने………………

स्वपन में देखता था कि, आसमान से गिर रहा हूं,
स्वपन आते हैं अब भी,लेकिन जमीन से ऊपर तैर रहा हूं।
बोझ उठाकर कन्धों पर, काफी दूर मैं आ गया हूं,
मानवता होने के नाते, आज मानव को मैं भा गया हूं।
गौरवान्वित हूं पाकर, जिन्दगी की जीत को ।।
आज लिखने……………….

था कभी मैं भुला- भुला, भूल भी सबब बन गई है,
भटकते हुए राहगीर को, अब मंजिल मिल गई है ।
लेकिन मंजिल पर आकर ,और मंजिल की तलाश है,
ताना बाना नया बुनते-बनते ,दिल में भी उल्लास है।
मन में उठी तरंग , गाऊं किसी गीत को।।
आज लिखने………………
सतपाल चौहान।

Language: Hindi
3 Likes · 1 Comment · 76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from SATPAL CHAUHAN
View all
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-184💐
💐प्रेम कौतुक-184💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
Jatashankar Prajapati
अल्फाज़ ए ताज भाग-11
अल्फाज़ ए ताज भाग-11
Taj Mohammad
मेरे जाने के बाद ,....
मेरे जाने के बाद ,....
ओनिका सेतिया 'अनु '
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
SPK Sachin Lodhi
आजादी..
आजादी..
Harminder Kaur
यादों का सफ़र...
यादों का सफ़र...
Santosh Soni
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Neeraj Agarwal
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
Dushyant Kumar
फगुनाई मन-वाटिका,
फगुनाई मन-वाटिका,
Rashmi Sanjay
कन्या रूपी माँ अम्बे
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
छाया है मधुमास सखी री, रंग रंगीली होली
छाया है मधुमास सखी री, रंग रंगीली होली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमारी
हमारी "डेमोक्रेसी"
*Author प्रणय प्रभात*
देश के संविधान का भी
देश के संविधान का भी
Dr fauzia Naseem shad
23/118.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/118.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
!! उमंग !!
!! उमंग !!
Akash Yadav
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
Not only doctors but also cheater opens eyes.
Not only doctors but also cheater opens eyes.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
निभाना नही आया
निभाना नही आया
Anil chobisa
वास्तविकता से परिचित करा दी गई है
वास्तविकता से परिचित करा दी गई है
Keshav kishor Kumar
👗कैना👗
👗कैना👗
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
तुम नहीं आये
तुम नहीं आये
Surinder blackpen
बेटियां
बेटियां
Madhavi Srivastava
I am always in search of the
I am always in search of the "why",
Manisha Manjari
ये जो लोग दावे करते हैं न
ये जो लोग दावे करते हैं न
ruby kumari
*पवन-पुत्र हनुमान (कुंडलिया)*
*पवन-पुत्र हनुमान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मूकनायक
मूकनायक
मनोज कर्ण
* लोकार्पण *
* लोकार्पण *
surenderpal vaidya
बिल्ली
बिल्ली
SHAMA PARVEEN
Loading...