Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

आज बगिया में था सम्मेलन

आज बगिया में था सम्मेलन
फूलों का और कलियों का
लिए शिकायत खड़े हुए थे
सब अपनी मंडलियों का
कमल सुने फूलों की दूविधा
दूर खड़ा हो पानी में
तितली भंवरे देख रहे थे
सम्मेलन हैरानी में
सभी कहें गुलाब को ही क्यों
चाहते हैं सबसे ज्यादा
हमको सभी रौंद देते हैं
गुलाब नहीं रौंदा जाता
कहा कमल ने हंसते-हंसते
कुछ तो तुम इनसे सीखो
तुमको भी सब प्यार करेंगे
कांटों पर उगना सीखो
सभी देख रहे एक दूजे को
समझ लिया सच्चाई को
अपना-अपना जीवन है ये
समझो आप खुदाई को
इतने में माली आ गया
खिले फूलों को चुनने को
सबसे पहले गुलाब ही तोड़ा
हार किसी का बुनने को
कमल बोला खुश रहना सीखो
सबका अपना भाग्य है
खुशी बांटते जीवन देकर जो
‘V9द’ उनका सौभाग्य है

1 Like · 2 Comments · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
अपना गाँव
अपना गाँव
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
शुभ होली
शुभ होली
Dr Archana Gupta
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
Atul "Krishn"
आकाश दीप - (6 of 25 )
आकाश दीप - (6 of 25 )
Kshma Urmila
*भारत नेपाल सम्बन्ध*
*भारत नेपाल सम्बन्ध*
Dushyant Kumar
मन मेरा क्यों उदास है.....!
मन मेरा क्यों उदास है.....!
VEDANTA PATEL
बंशी बजाये मोहना
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Tushar Jagawat
उन अंधेरों को उजालों की उजलत नसीब नहीं होती,
उन अंधेरों को उजालों की उजलत नसीब नहीं होती,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
Shweta Soni
ज़रा सा इश्क
ज़रा सा इश्क
हिमांशु Kulshrestha
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👰👸🙋👭🕊️🕊️
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👰👸🙋👭🕊️🕊️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"मुग़ालतों के मुकुट"
*प्रणय प्रभात*
*आया भैया दूज का, पावन यह त्यौहार (कुंडलिया)*
*आया भैया दूज का, पावन यह त्यौहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
काश आज चंद्रमा से मुलाकाकत हो जाती!
काश आज चंद्रमा से मुलाकाकत हो जाती!
पूर्वार्थ
कैसे कह दें?
कैसे कह दें?
Dr. Kishan tandon kranti
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
सत्य कुमार प्रेमी
नहीं है प्रेम जीवन में
नहीं है प्रेम जीवन में
आनंद प्रवीण
" प्रिये की प्रतीक्षा "
DrLakshman Jha Parimal
R J Meditation Centre
R J Meditation Centre
Ravikesh Jha
सूरज का टुकड़ा...
सूरज का टुकड़ा...
Santosh Soni
जिस देश में लोग संत बनकर बलात्कार कर सकते है
जिस देश में लोग संत बनकर बलात्कार कर सकते है
शेखर सिंह
💃युवती💃
💃युवती💃
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
3363.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3363.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
** जिंदगी  मे नहीं शिकायत है **
** जिंदगी मे नहीं शिकायत है **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सच्ची बकरीद
सच्ची बकरीद
Satish Srijan
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
विचारों की सुन्दरतम् प्रस्तुति का नाम कविता
कवि रमेशराज
दौड़ी जाती जिंदगी,
दौड़ी जाती जिंदगी,
sushil sarna
आधुनिक हिन्दुस्तान
आधुनिक हिन्दुस्तान
SURYA PRAKASH SHARMA
नदी
नदी
Kumar Kalhans
Loading...