Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2016 · 1 min read

आज जवाहर बाग़ हमें फिर जलियावाला बाग़ लगा ।

*******************************************
आज जवाहर बाग़ मुझे फिर जलियावाला बाग़ लगा ।
राम वृक्ष बन गया कंस फिर मुझे कालिया नाग लगा ।
धूं धूं करके मथुरा जलती विलख रही अंगारों में ।
यक्ष प्रश्न है …..? ये दुःसाहस कैसे हैं गद्दारों में ।
कैसे ये सब लैस हुए हैं विस्फोटक हथियारों से ।
क्या इनको इमदाद मिल रही सत्ता के गलियारों से ।
पूछ रहे खाकी के शव जो रक्खे आज चिताओं पर ।
मुकुल और संतोष के परिजन पूछ रहे नेताओं पर ।
अभी तलक सूबे का मुखिया क्यों बैठा सन्नाटे में ।
अब भी शायद वो उलझा है आज मुनाफे घाटे में ।
हमने तो है काट गिराया राम वृक्ष को खेतों में ।
सपने सभी जला डाले है हमने तपती रेतों में ।
बलि अपनी दे दी हमने अब बोली मेरी लगाओ तुम ।
दे रहा कसम हिम्मत हो तो मेरे घर तक जाओ तुम ।
भूखे बच्चे रह लेंगे पर हाथ नहीं फैलायेंगे ।
जब भी आएगा मौका वो अपना शीश कटायेंगे ।
ए वतन हमारा है हमने इसको खून से सींचा है ।
हो रही नपुंशक राजनीति तभी आज ये नींचा है ।
अगर देश की शान चाहते निकलो ए.सी. कमरों से ।
आगे बढ़कर करो फैसले मत इठलाओ भ्रमरों से ।
देखो हिंदुस्तान तरफ फिर राम कृष्ण को याद करो ।
उनकी तरह मिटा दो फिर से जो मथुरा पर दाग लगा ।
आज जवाहर बाग़ मुझे फिर जलियावाला बाग़ लगा ।
रामवृक्ष बन गया कंस फिर मुझे कालिया नाग लगा ।
*******************************************
– वीर पटेल

Language: Hindi
233 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दुआ नहीं मांगता के दोस्त जिंदगी में अनेक हो
दुआ नहीं मांगता के दोस्त जिंदगी में अनेक हो
Sonu sugandh
अपने हाथ,
अपने हाथ,
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
23/110.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/110.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
******** प्रेरणा-गीत *******
******** प्रेरणा-गीत *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
-- कैसा बुजुर्ग --
-- कैसा बुजुर्ग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
10) “वसीयत”
10) “वसीयत”
Sapna Arora
" तितलियांँ"
Yogendra Chaturwedi
'अ' अनार से
'अ' अनार से
Dr. Kishan tandon kranti
मित्रता-दिवस
मित्रता-दिवस
Kanchan Khanna
राम : लघुकथा
राम : लघुकथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
आंधी
आंधी
Aman Sinha
*दिन गए चिट्ठियों के जमाने गए (हिंदी गजल)*
*दिन गए चिट्ठियों के जमाने गए (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
लब हिलते ही जान जाते थे, जो हाल-ए-दिल,
लब हिलते ही जान जाते थे, जो हाल-ए-दिल,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
" रहना तुम्हारे सँग "
DrLakshman Jha Parimal
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
Jay Dewangan
शिखर पर पहुंचेगा तू
शिखर पर पहुंचेगा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हजारों लोग मिलेंगे तुम्हें
हजारों लोग मिलेंगे तुम्हें
ruby kumari
आज आंखों में
आज आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
गीतिका
गीतिका "बचाने कौन आएगा"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
You relax on a plane, even though you don't know the pilot.
You relax on a plane, even though you don't know the pilot.
पूर्वार्थ
Though of the day 😇
Though of the day 😇
ASHISH KUMAR SINGH
💐अज्ञात के प्रति-132💐
💐अज्ञात के प्रति-132💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
निर्झरिणी है काव्य की, झर झर बहती जाय
निर्झरिणी है काव्य की, झर झर बहती जाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पलटूराम में भी राम है
पलटूराम में भी राम है
Sanjay ' शून्य'
हमारा चंद्रयान थ्री
हमारा चंद्रयान थ्री
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
👌ग़ज़ल :--
👌ग़ज़ल :--
*Author प्रणय प्रभात*
शब्द
शब्द
Neeraj Agarwal
न किजिए कोशिश हममें, झांकने की बार-बार।
न किजिए कोशिश हममें, झांकने की बार-बार।
ओसमणी साहू 'ओश'
भ्रम का जाल
भ्रम का जाल
नन्दलाल सुथार "राही"
आज़ाद जयंती
आज़ाद जयंती
Satish Srijan
Loading...