Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2016 · 1 min read

आज जवाहर बाग़ हमें फिर जलियावाला बाग़ लगा ।

*******************************************
आज जवाहर बाग़ मुझे फिर जलियावाला बाग़ लगा ।
राम वृक्ष बन गया कंस फिर मुझे कालिया नाग लगा ।
धूं धूं करके मथुरा जलती विलख रही अंगारों में ।
यक्ष प्रश्न है …..? ये दुःसाहस कैसे हैं गद्दारों में ।
कैसे ये सब लैस हुए हैं विस्फोटक हथियारों से ।
क्या इनको इमदाद मिल रही सत्ता के गलियारों से ।
पूछ रहे खाकी के शव जो रक्खे आज चिताओं पर ।
मुकुल और संतोष के परिजन पूछ रहे नेताओं पर ।
अभी तलक सूबे का मुखिया क्यों बैठा सन्नाटे में ।
अब भी शायद वो उलझा है आज मुनाफे घाटे में ।
हमने तो है काट गिराया राम वृक्ष को खेतों में ।
सपने सभी जला डाले है हमने तपती रेतों में ।
बलि अपनी दे दी हमने अब बोली मेरी लगाओ तुम ।
दे रहा कसम हिम्मत हो तो मेरे घर तक जाओ तुम ।
भूखे बच्चे रह लेंगे पर हाथ नहीं फैलायेंगे ।
जब भी आएगा मौका वो अपना शीश कटायेंगे ।
ए वतन हमारा है हमने इसको खून से सींचा है ।
हो रही नपुंशक राजनीति तभी आज ये नींचा है ।
अगर देश की शान चाहते निकलो ए.सी. कमरों से ।
आगे बढ़कर करो फैसले मत इठलाओ भ्रमरों से ।
देखो हिंदुस्तान तरफ फिर राम कृष्ण को याद करो ।
उनकी तरह मिटा दो फिर से जो मथुरा पर दाग लगा ।
आज जवाहर बाग़ मुझे फिर जलियावाला बाग़ लगा ।
रामवृक्ष बन गया कंस फिर मुझे कालिया नाग लगा ।
*******************************************
– वीर पटेल

Language: Hindi
Tag: कविता
177 Views
You may also like:
जनरल विपिन रावत
Surya Barman
सोच
लक्ष्मी सिंह
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
2023
AJAY AMITABH SUMAN
"कुछ अधूरे सपने"
MSW Sunil SainiCENA
सत्य सनातन पंथ चलें सब, आशाओं के दीप जलें।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मेरे भईया हमेशा सलामत रहें
Dr fauzia Naseem shad
सब्र
Pratibha Kumari
लाख सितारे ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
कहानी *"ममता"* पार्ट-3 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
सीमा पर हम प्रहरी बनकर अरि को मार भगाएंगे
Dr Archana Gupta
सच कह रहा हूँ तुमसे
gurudeenverma198
@@कामना च आवश्यकता च विभेदः@@
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
किसे फर्क पड़ता है।(कविता)
sangeeta beniwal
✍️आईने ने कहा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
"मौन "
DrLakshman Jha Parimal
■ प्रकाशित घरेलू वृत्तांत
*Author प्रणय प्रभात*
रिक्शा प्यारा आया (गीत)
Ravi Prakash
"नजीबुल्लाह: एक महान राष्ट्रपति का दुखदाई अन्त"
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️✍️नासूर दर्द✍️✍️
'अशांत' शेखर
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ५]
Anamika Singh
दिल की ये आरजू है
श्री रमण 'श्रीपद्'
*आधुनिक सॉनेट का अनुपम संग्रह है ‘एक समंदर गहरा भीतर’*
बिमल तिवारी आत्मबोध
शेर
Shriyansh Gupta
" रुढ़िवादिता की सोच"
Dr Meenu Poonia
घर की पुरानी दहलीज।
Taj Mohammad
कितने सावन बीते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
समय को दोष देते हो....!
Dr. Pratibha Mahi
अद्भुत सितारा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जिसके दिल से निकाले गए
कवि दीपक बवेजा
Loading...