Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2023 · 3 min read

आज के युग में नारीवाद

आज के युग का नारीवाद

आजादी के. 76 वर्ष बाद नारीवाद की बात करना
बेबुनियाद हैं।

जी हां सही कह रही हूं मैं।बहुत से लोगों को मेरी बात ही बेबुनियाद लगेगी। इस विषय पर ज्यादातर मर्दों का ही नहीं, औरतों की प्रतिक्रिया भी साकारात्मक नहीं होगी। आप पूछेंगे कैसे____? ज़रा रुकिए ,और देखिये।

**”अरे भाई,सुबह सज धजकर आफिस के
लिए निकलती है,मनचाहा पहनती हैं, मनचाहा खाती हैं
जहां चाहे आती जाती है ,अब और कितनी आज़ादी चाहिए इनको””**

**”चार चपाती बनाई,और चल दिए मोहिनी मूरत बन ,दूसरे मर्दों को रिझाने ।””,**

**,””सुन री शीला,ये जो शर्मा जी की बहू है न , मुझे तो इसके लक्षण ठीक नहीं लगते,कैसे गैर मर्दों के संग आती जाती है””**

अब ये तो थे कुछ उदाहरण और चरित्र प्रमाण-पत्र जो समाज हर औरत को दे रहा है ।
मुंह पर सब कहते हैं अच्छा है जाब करती हो ,आपने पति का हाथ बंटाती हो ।औरत का पैसे कमाना सब को
अच्छा लगता है लेकिन घर से निकलना अच्छा नहीं लगता। औरत को अगर काम करना है तो हर तरह के लोगों से उसे मिलना होगा,बात करनी होगी ।क्या किसी
पुरुष के कार्यक्षेत्र में औरतें काम नहीं करती।
अगर पुरुष मीटिंग से देर रात लेट आ सकता है तो औरत क्यूं नही ।ये है आज़ादी 75 वर्षों बाद।

आजादी के इतने वर्षों बाद भी औरत को एक सुरक्षित समाजिक ढांचा नहीं मिला।अगर वो असुरक्षित हैं तो कारण क्या है ?? वहीं मर्द की मानसिकता , जिसने औरत को सिर्फ उपभोग की वस्तु मात्र समझा है। भारत में करीब 2 करोड़ औरतें वैश्य हैं। समाचार एजेंसी रियूटर (Reuters) के मुताबिक करीब 14 करोड़ मर्द रोज़ वैश्य के साथ हमबिस्तर होते हैं।फिर भी !!!!!
बलात्कार का आंकड़ा दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है क्यूं? ज़रा सोचिए !!!!

अगला पहलू ये है औरत का हर जगह यौन शोषण होता है । अपनी शर्तों पर जीने वाली पढ़ी-लिखी औरतों को समाज चरित्र हीन समझता है।
नारीवाद अभी भी सिर्फ किताबों और कागजों की शोभा है ।

दहेज के लिए बहूएं अब भी जलाई जाती है।
मर्द के पास बच्चा पैदा करने की क्षमता न हो तो, औरत को ही बांझ कहा जाता है ।
शराब ,अफीम स्मैक हर नशे में धुत हुए मर्दों को संभालना औरत की जिम्मेदारी है। और उस पर घरेलू
हिंसा ।

।2015-16 के बीच हुए 6 लाख परिवारों की करीब 7 लाख महिलाओं के बीच कराए गए एक सर्वे के अनुसार लगभग 31 फीसद महिलाएं घरेलू हिंसा का शिकार हुई थी। 4 फीसद महिलाओं को तो गर्भावस्था के दौरान भी हिंसा का सामना करना पड़ा। सरकारी आंकड़ों से एक बात तो उजागर होती है कि भारत में महिलाओं के खिलाफ बड़े पैमाने पर घरेलू हिंसा एक वास्तविकता है लेकिन सबसे दुखद यह है कि ज्यादातर मामलों में डर और परिवार वालों की इज्जत के कारण इसकी शिकायत भी दर्ज नहीं होती है।

फिर भी औरत सब करती है ,वंश बढ़ाती है ,घर संभालती है । बच्चे पालती है।**ऊपर से अगर पुरुष किसी दूसरी औरत से चक्कर चला ले तो भी औरत को सीख,””तुम्हें ही मरद को रिझाना नहीं आया **

मेरा मानना तो ये है अगर हम इतने बरसों बाद भी औरत को एक सुरक्षित समाज नहीं दे पाये तो आजादी
कैसी?? नारीवाद कैसा??

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
ऐसा बेजान था रिश्ता कि साँस लेता रहा
ऐसा बेजान था रिश्ता कि साँस लेता रहा
Shweta Soni
"कवि और नेता"
Dr. Kishan tandon kranti
विविध विषय आधारित कुंडलियां
विविध विषय आधारित कुंडलियां
नाथ सोनांचली
सफल लोगों की अच्छी आदतें
सफल लोगों की अच्छी आदतें
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
हे आदमी, क्यों समझदार होकर भी, नासमझी कर रहे हो?
हे आदमी, क्यों समझदार होकर भी, नासमझी कर रहे हो?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जय श्री कृष्ण
जय श्री कृष्ण
Bodhisatva kastooriya
माँ दहलीज के पार🙏
माँ दहलीज के पार🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दिव्यांग वीर सिपाही की व्यथा
दिव्यांग वीर सिपाही की व्यथा
लक्ष्मी सिंह
2862.*पूर्णिका*
2862.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रिश्तों की गहराई लिख - संदीप ठाकुर
रिश्तों की गहराई लिख - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
-- फिर हो गयी हत्या --
-- फिर हो गयी हत्या --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
■ आज नहीं अभी 😊😊
■ आज नहीं अभी 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सुदामा जी
सुदामा जी
Vijay Nagar
माँ मुझे जवान कर तू बूढ़ी हो गयी....
माँ मुझे जवान कर तू बूढ़ी हो गयी....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
शेष
शेष
Dr.Priya Soni Khare
राम छोड़ ना कोई हमारे..
राम छोड़ ना कोई हमारे..
Vijay kumar Pandey
एक नज़र में
एक नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
मेहनत की कमाई
मेहनत की कमाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
* टाई-सँग सँवरा-सजा ,लैपटॉप ले साथ【कुंडलिया】*
* टाई-सँग सँवरा-सजा ,लैपटॉप ले साथ【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
बचपन
बचपन
Shyam Sundar Subramanian
ऐसा क्यों होता है
ऐसा क्यों होता है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
तुम्हें क्या लाभ होगा, ईर्ष्या करने से
तुम्हें क्या लाभ होगा, ईर्ष्या करने से
gurudeenverma198
व्यंग्य क्षणिकाएं
व्यंग्य क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
वसंत - फाग का राग है
वसंत - फाग का राग है
Atul "Krishn"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
कैसे बताऊं मेरे कौन हो तुम
कैसे बताऊं मेरे कौन हो तुम
Ram Krishan Rastogi
गवर्नमेंट जॉब में ऐसा क्या होता हैं!
गवर्नमेंट जॉब में ऐसा क्या होता हैं!
शेखर सिंह
पिता बनाम बाप
पिता बनाम बाप
Sandeep Pande
डायरी भर गई
डायरी भर गई
Dr. Meenakshi Sharma
Loading...