Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2019 · 1 min read

आज की नारी

आज की नारी

घूँघट त्याग नज़र से नज़र मिलाने लगी है,
नारी शक्ति अपनी ताकत दिखाने लगी है !!

घुट-घुट के जीना बीते दिनों की बात हुई,
खुलकर जिंदगी का लुफ्त उठाने लगी है!!

छोड़ दिया है उसने चारदीवारी में कैद रहना,
देहरी के बहार भी अब कदम जमाने लगी है!!

सीख लिया है कतरे हुए परों से भी उड़ना
परचम आकाश में भी अब लहराने लगी है !!

कल तक रही जो बनकर नाज़ुक कली
आज खुशबू चारो और बिखराने लगी है !!

छोड़कर दकियानूसी रीती रिवाज़ो को
नई दुनिया में, कदम बढ़ाने लगी है !!

जल, थल, वायु, कुछ नहीं रहा अब अछूता
दर दिशा में ताकत अपनी आज़माने लगी है !!

अब डर नहीं लगता इन्हे मानुषी भेडियो से
बन सिहंनी, गर्जना से अपनी डराने लगी है!!

क्या हिमाकत किसी रावण की, उड़ा ले जाए
बहरूपियों को सबक खुद ही सिखाने लगी है !!

भूल जाए दुनियाँ अब चौसर के दाँव पे लगाना
अब धर चंडी का रूप आत्मरक्षा पाने लगी है !!

लक्ष्मी,विद्या,सरस्वती, संग नौ दुर्गा रूप लिए
वक़्त की नज़ाकत से कर्म अपना निभाने लगी है !!

है आज भी वही ममता, प्रेम और त्याग की मूरत
ये न समझना “धर्म” अपने से मुँह चुराने लगी है !!

स्वरचित: डी के निवातिया

1 Like · 2 Comments · 283 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2122 1212 22/112
2122 1212 22/112
SZUBAIR KHAN KHAN
अयाग हूँ मैं
अयाग हूँ मैं
Mamta Rani
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
Anil Mishra Prahari
कवि की कल्पना
कवि की कल्पना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
మంత్రాలయము మహా పుణ్య క్షేత్రము
మంత్రాలయము మహా పుణ్య క్షేత్రము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
बेटियां ज़ख्म सह नही पाती
बेटियां ज़ख्म सह नही पाती
Swara Kumari arya
सत्य की खोज
सत्य की खोज
dks.lhp
23/52.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/52.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"सच्चाई"
Dr. Kishan tandon kranti
// प्रीत में //
// प्रीत में //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सत्य सनातन गीत है गीता
सत्य सनातन गीत है गीता
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
लक्ष्मी सिंह
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
Mukta Rashmi
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
नेता जब से बोलने लगे सच
नेता जब से बोलने लगे सच
Dhirendra Singh
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
* विजयदशमी मनाएं हम *
* विजयदशमी मनाएं हम *
surenderpal vaidya
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
25- 🌸-तलाश 🌸
25- 🌸-तलाश 🌸
Mahima shukla
ग़ज़ल/नज़्म - उसकी तो बस आदत थी मुस्कुरा कर नज़र झुकाने की
ग़ज़ल/नज़्म - उसकी तो बस आदत थी मुस्कुरा कर नज़र झुकाने की
अनिल कुमार
साथ अगर उनका होता
साथ अगर उनका होता
gurudeenverma198
*शुभ रात्रि हो सबकी*
*शुभ रात्रि हो सबकी*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आज वो भी भारत माता की जय बोलेंगे,
आज वो भी भारत माता की जय बोलेंगे,
Minakshi
सोच
सोच
Sûrëkhâ
सर्वनाम
सर्वनाम
Neelam Sharma
पूरे शहर का सबसे समझदार इंसान नादान बन जाता है,
पूरे शहर का सबसे समझदार इंसान नादान बन जाता है,
Rajesh Kumar Arjun
"कष्ट"
नेताम आर सी
"एक सुबह मेघालय की"
अमित मिश्र
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Loading...