Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

आज का नेता

तवारीख़ में दफ़्न मुर्दों को उखाड़ रहे हैं ,

अपनी -अपनी दलीले पेश कर अवाम को
बरग़ला रहे हैं ,

हालाते हाज़िरा से भटका अवाम को
गुम़राह कर रहे हैं ,

मुल्क के मुस्तक़बिल की इन्हें
फ़िक्र नहीं है ,

अपनी – अपनी सियासत की रोटी सेंकने की
इन्हें पड़ी हैं ,

कहीं जात , कहीं जज़्बात ,कहीं ज़मात का भरम फैला अपना सियासी दांंव खेल रहे हैं ,

अपना उल्लू सीधा करने की कोशिश में
इन्होंने अवाम को भेड़ बनाकर रख दिया है ,

चंद पैसों और मुफ्तखोरी के लालच में
इनके इशारों पर नाचने के लिए मजबूर कर दिया है,

अपनी सियासी खुदगर्जी की खातिर ये
मुल्क के आईन का क़त्ल करने से
भी नहीं चूकते है ,

इनका बस चले तो ये खुदगर्ज़ अपना ज़मीर बेच
अपने मुल्क को दीगर मुल्क के हाथों
गिरवी रख सकते हैं।

83 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
इन्सानियत
इन्सानियत
Bodhisatva kastooriya
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चंचल मन
चंचल मन
उमेश बैरवा
स्वार्थ से परे !!
स्वार्थ से परे !!
Seema gupta,Alwar
*शिक्षक*
*शिक्षक*
Dushyant Kumar
मर्द की कामयाबी के पीछे माँ के अलावा कोई दूसरी औरत नहीं होती
मर्द की कामयाबी के पीछे माँ के अलावा कोई दूसरी औरत नहीं होती
Sandeep Kumar
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
कवि दीपक बवेजा
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
प्रेम गजब है
प्रेम गजब है
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
*समय अच्छा अगर हो तो, खुशी कुछ खास मत करना (मुक्तक)*
*समय अच्छा अगर हो तो, खुशी कुछ खास मत करना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
रिश्ते..
रिश्ते..
हिमांशु Kulshrestha
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Tarun Singh Pawar
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
विमला महरिया मौज
हर मौहब्बत का एहसास तुझसे है।
हर मौहब्बत का एहसास तुझसे है।
Phool gufran
अपना समझकर ही गहरे ज़ख्म दिखाये थे
अपना समझकर ही गहरे ज़ख्म दिखाये थे
'अशांत' शेखर
प्यारा बंधन प्रेम का
प्यारा बंधन प्रेम का
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मैं बनना चाहता हूँ तुम्हारा प्रेमी,
मैं बनना चाहता हूँ तुम्हारा प्रेमी,
Dr. Man Mohan Krishna
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
'आलम-ए-वजूद
'आलम-ए-वजूद
Shyam Sundar Subramanian
जेठ कि भरी दोपहरी
जेठ कि भरी दोपहरी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
कवि रमेशराज
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
Rj Anand Prajapati
3290.*पूर्णिका*
3290.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पथिक तुम इतने विव्हल क्यों ?
पथिक तुम इतने विव्हल क्यों ?
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"सारे साथी" और
*Author प्रणय प्रभात*
गीता जयंती
गीता जयंती
Satish Srijan
हैवानियत
हैवानियत
Shekhar Chandra Mitra
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...