Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

“आजादी के दीवाने”

“आजादी के दीवाने”
आजादी के उन वीर दीवानों ने
देशप्रेम का जज्बा पाया था,
वतन की खातिर हँसते-हँसते
फाँसी को गले लगाया था।

1 Like · 1 Comment · 33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
लोकतन्त्र के हत्यारे अब वोट मांगने आएंगे
लोकतन्त्र के हत्यारे अब वोट मांगने आएंगे
Er.Navaneet R Shandily
नन्ही भिखारन!
नन्ही भिखारन!
कविता झा ‘गीत’
कृपया मेरी सहायता करो...
कृपया मेरी सहायता करो...
Srishty Bansal
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
Seema gupta,Alwar
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
आप और जीवन के सच
आप और जीवन के सच
Neeraj Agarwal
#प्रसंगवश...
#प्रसंगवश...
*प्रणय प्रभात*
जय भोलेनाथ
जय भोलेनाथ
Anil Mishra Prahari
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
DrLakshman Jha Parimal
कोशिश कर रहा हूँ मैं,
कोशिश कर रहा हूँ मैं,
Dr. Man Mohan Krishna
अभिव्यक्ति के माध्यम - भाग 02 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति के माध्यम - भाग 02 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
ग्रंथ
ग्रंथ
Tarkeshwari 'sudhi'
3149.*पूर्णिका*
3149.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यारो ऐसी माॅं होती है, यारो वो ही माॅं होती है।
यारो ऐसी माॅं होती है, यारो वो ही माॅं होती है।
सत्य कुमार प्रेमी
*जो अपना छोड़‌कर सब-कुछ, चली ससुराल जाती हैं (हिंदी गजल/गीतिका)*
*जो अपना छोड़‌कर सब-कुछ, चली ससुराल जाती हैं (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
उस सावन के इंतजार में कितने पतझड़ बीत गए
उस सावन के इंतजार में कितने पतझड़ बीत गए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
दिल तमन्ना
दिल तमन्ना
Dr fauzia Naseem shad
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
गुरु का महत्व
गुरु का महत्व
Indu Singh
सौन्दर्य के मक़बूल, इश्क़! तुम क्या जानो प्रिय ?
सौन्दर्य के मक़बूल, इश्क़! तुम क्या जानो प्रिय ?
Varun Singh Gautam
देख स्वप्न सी उर्वशी,
देख स्वप्न सी उर्वशी,
sushil sarna
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
अपनी कद्र
अपनी कद्र
Paras Nath Jha
!! हे उमां सुनो !!
!! हे उमां सुनो !!
Chunnu Lal Gupta
"वाह नारी तेरी जात"
Dr. Kishan tandon kranti
*****जीवन रंग*****
*****जीवन रंग*****
Kavita Chouhan
आंखों से अश्क बह चले
आंखों से अश्क बह चले
Shivkumar Bilagrami
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
चंद सिक्के उम्मीदों के डाल गुल्लक में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हे ! गणपति महाराज
हे ! गणपति महाराज
Ram Krishan Rastogi
Loading...