Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 28, 2016 · 1 min read

* आजाओ कन्हैया *

* आजाओ कन्हैया *

आजाओ कन्हैया हमरी नगरियाँ में
पाप बढ़ी है भाड़ी
आजाओ कृष्ण मुरारी ,

नारी यहाँ द्वौपती बनी
तुम्हारी नाम रही पुकारी
आज द्वयोधन और दुशासन की
संख्या बढ़ रही है भाड़ी ,

आजाओ कन्हैया हमरी नगरियाँ में
पाप बढ़ी है भाड़ी
आजाओ कृष्ण मुरारी ,

काल यमन को लोग यहाँ बुलाए
अपनी सभ्यता संस्कृती मिटाए
घर की ईज्जत बेच कर
लूट रहें वाह-वही ,

आजाओ कन्हैया हमरी नगरियाँ में
पाप बढ़ी है भाड़ी
आजाओ कृष्ण मुरारी ,

ऋषि-मुनि ना रहें यहाँ
ना रहें साधु-सन्यासी
छल-प्रपंच का पहरा यहाँ पर
धर्म के नाम पर बने लोग व्यापारी ,

आजाओ कन्हैया हमरी नगरियाँ में
पाप बढ़ी है भाड़ी
आजाओ कृष्ण मुरारी ,

सरकार घोटालो में लिप्त है
प्रशासन भी उस में संलिप्त है
जमीर लोगों ने बेच दिया
अब देश बेचने की बरी ,

आजाओ कन्हैया हमरी नगरियाँ में
पाप बढ़ी है भाड़ी
आजाओ कृष्ण मुरारी ,

नर नर ना रहा
ना रही नारी नारी
कर्म-धर्म सब भूले लोग
कलयुग से कर रहे यारी ,

आजाओ कन्हैया हमरी नगरियाँ में
पाप बढ़ी है भाड़ी
आजाओ कृष्ण मुरारी।

प्रस्तुतकर्ता -नरेन्द्र कुमार

158 Views
You may also like:
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
पिता
Mamta Rani
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
झूला सजा दो
Buddha Prakash
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
*"पिता"*
Shashi kala vyas
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
विजय कुमार 'विजय'
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Shiva Gouri tiwari
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...