Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Aug 2016 · 1 min read

* आजाओ कन्हैया *

* आजाओ कन्हैया *

आजाओ कन्हैया हमरी नगरियाँ में
पाप बढ़ी है भाड़ी
आजाओ कृष्ण मुरारी ,

नारी यहाँ द्वौपती बनी
तुम्हारी नाम रही पुकारी
आज द्वयोधन और दुशासन की
संख्या बढ़ रही है भाड़ी ,

आजाओ कन्हैया हमरी नगरियाँ में
पाप बढ़ी है भाड़ी
आजाओ कृष्ण मुरारी ,

काल यमन को लोग यहाँ बुलाए
अपनी सभ्यता संस्कृती मिटाए
घर की ईज्जत बेच कर
लूट रहें वाह-वही ,

आजाओ कन्हैया हमरी नगरियाँ में
पाप बढ़ी है भाड़ी
आजाओ कृष्ण मुरारी ,

ऋषि-मुनि ना रहें यहाँ
ना रहें साधु-सन्यासी
छल-प्रपंच का पहरा यहाँ पर
धर्म के नाम पर बने लोग व्यापारी ,

आजाओ कन्हैया हमरी नगरियाँ में
पाप बढ़ी है भाड़ी
आजाओ कृष्ण मुरारी ,

सरकार घोटालो में लिप्त है
प्रशासन भी उस में संलिप्त है
जमीर लोगों ने बेच दिया
अब देश बेचने की बरी ,

आजाओ कन्हैया हमरी नगरियाँ में
पाप बढ़ी है भाड़ी
आजाओ कृष्ण मुरारी ,

नर नर ना रहा
ना रही नारी नारी
कर्म-धर्म सब भूले लोग
कलयुग से कर रहे यारी ,

आजाओ कन्हैया हमरी नगरियाँ में
पाप बढ़ी है भाड़ी
आजाओ कृष्ण मुरारी।

प्रस्तुतकर्ता -नरेन्द्र कुमार

Language: Hindi
293 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
My Lord
My Lord
Kanchan Khanna
प्रश्नपत्र को पढ़ने से यदि आप को पता चल जाय कि आप को कौन से
प्रश्नपत्र को पढ़ने से यदि आप को पता चल जाय कि आप को कौन से
Sanjay ' शून्य'
कर्म ही है श्रेष्ठ
कर्म ही है श्रेष्ठ
Sandeep Pande
महा कवि वृंद रचनाकार,
महा कवि वृंद रचनाकार,
Neelam Sharma
फिर एक पलायन (पहाड़ी कहानी)
फिर एक पलायन (पहाड़ी कहानी)
श्याम सिंह बिष्ट
प्रथम पूज्य श्रीगणेश
प्रथम पूज्य श्रीगणेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
💐अज्ञात के प्रति-132💐
💐अज्ञात के प्रति-132💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
DrLakshman Jha Parimal
23/110.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/110.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
परिवर्तन विकास बेशुमार
परिवर्तन विकास बेशुमार
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
గురువు కు వందనం.
గురువు కు వందనం.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
ओझल मनुआ मोय
ओझल मनुआ मोय
श्रीहर्ष आचार्य
उम्र के हर पड़ाव पर
उम्र के हर पड़ाव पर
Surinder blackpen
देवों की भूमि उत्तराखण्ड
देवों की भूमि उत्तराखण्ड
Ritu Asooja
" हैं अगर इंसान तो
*Author प्रणय प्रभात*
प्राण- प्रतिष्ठा
प्राण- प्रतिष्ठा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
एक तो धर्म की ओढनी
एक तो धर्म की ओढनी
Mahender Singh Manu
लबो पे तबस्सुम निगाहों में बिजली,
लबो पे तबस्सुम निगाहों में बिजली,
Vishal babu (vishu)
आराम का हराम होना जरूरी है
आराम का हराम होना जरूरी है
हरवंश हृदय
When the ways of this world are, but
When the ways of this world are, but
Dhriti Mishra
"मुखौटे"
इंदु वर्मा
चाय
चाय
Dr. Seema Varma
✍️दुनियां को यार फिदा कर...
✍️दुनियां को यार फिदा कर...
'अशांत' शेखर
वियोग
वियोग
पीयूष धामी
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
Ram Krishan Rastogi
*केवल जाति-एकता की, चौतरफा जय-जयकार है 【मुक्तक】*
*केवल जाति-एकता की, चौतरफा जय-जयकार है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
मुर्दा समाज
मुर्दा समाज
Rekha Drolia
काश तुम मिले ना होते तो ये हाल हमारा ना होता
काश तुम मिले ना होते तो ये हाल हमारा ना होता
Kumar lalit
रूप कुदरत का
रूप कुदरत का
surenderpal vaidya
Loading...