Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

आज़ादी का जश्न

आज़ादी का जश्न
ऐसे मनाओ, साथियों
जहां भी हो गुलामी
उसे मिटाओ, साथियों…
(१)
छिपेंगे भी तो कहां
ये शैतान के नुमाइंदे
हरेक स्याह घर में
चिराग़ जलाओ, साथियों…
(२)
सदियों से इंसानी
हुक़ूक़ से महरूम जो
ऐसे महकूमों को
इंसाफ़ दिलाओ, साथियों…
(३)
जब भी हुक़्मरान से
कोई सवाल पूछना हो
सबसे पहले वहां
हमें बुलाओ, साथियों…
(४)
जीते रहेंगे कब तक
वे जिल्लत की ज़िंदगी
मीडिया वालों की
गैरत जगाओ, साथियों…
(५)
जम्हूरियत के लिए
होने वाले मुजाहिरों में
‘शेखर’ की इंकलाबी
ग़ज़ल सुनाओ, साथियों…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#अवामी #इंकलाबी #सियासी #बागी
#शायर #विद्रोही #क्रांतिकारी #जनवादी
#कवि #गीतकार #आंदोलन #प्रदर्शन
#राजनीतिक #lyrics #protest #सच
#lyricist #यथार्थ #प्रगतिशील #चेतना

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 208 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हवेली का दर्द
हवेली का दर्द
Atul "Krishn"
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ख्वाब नाज़ुक हैं
ख्वाब नाज़ुक हैं
rkchaudhary2012
सत्य ही शिव
सत्य ही शिव
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बाल कविता: मूंगफली
बाल कविता: मूंगफली
Rajesh Kumar Arjun
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
मैं
मैं
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
दिल के टुकड़े
दिल के टुकड़े
Surinder blackpen
सावन
सावन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बाप के ब्रह्मभोज की पूड़ी
बाप के ब्रह्मभोज की पूड़ी
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
Rekha khichi
सत्य (कुंडलिया)
सत्य (कुंडलिया)
Ravi Prakash
गुजारे गए कुछ खुशी के पल,
गुजारे गए कुछ खुशी के पल,
Arun B Jain
रूबरू मिलने का मौका मिलता नही रोज ,
रूबरू मिलने का मौका मिलता नही रोज ,
Anuj kumar
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
Buddha Prakash
मनुष्य
मनुष्य
Sanjay ' शून्य'
■ गीत / पधारो मातारानी
■ गीत / पधारो मातारानी
*Author प्रणय प्रभात*
बंटते हिन्दू बंटता देश
बंटते हिन्दू बंटता देश
विजय कुमार अग्रवाल
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
ruby kumari
2258.
2258.
Dr.Khedu Bharti
*सवर्ण (उच्च जाति)और शुद्र नीच (जाति)*
*सवर्ण (उच्च जाति)और शुद्र नीच (जाति)*
Rituraj shivem verma
लफ़्ज़ों में ज़िंदगी को
लफ़्ज़ों में ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
चन्द्रयान
चन्द्रयान
Kavita Chouhan
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
' मौन इक सँवाद '
' मौन इक सँवाद '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
चेतावनी हिमालय की
चेतावनी हिमालय की
Dr.Pratibha Prakash
ग्रामीण ओलंपिक खेल
ग्रामीण ओलंपिक खेल
Shankar N aanjna
💐अज्ञात के प्रति-41💐
💐अज्ञात के प्रति-41💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मीठा शहद बनाने वाली मधुमक्खी भी डंक मार सकती है इसीलिए होशिय
मीठा शहद बनाने वाली मधुमक्खी भी डंक मार सकती है इसीलिए होशिय
Tarun Singh Pawar
Loading...