Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Oct 2023 · 1 min read

-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-

– आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ? –
मिलावट ,दगाबाजी, धोखा, फरेब,
ऐब, नशा, धन , दौलत , शौहरत , बेवफाई क्यों है,
आजकल मोहब्बत में मिलावट क्यों है,
धन है तो ही मोहब्बत निर्धन का कोई सहारा नही है,
उसको मिलता किनारा नही है,
होती थी पहले सच्ची मोहब्बत , सच्चा प्यार ,इश्क बेपनाह,
होता था प्यार अपने चरम पर पहले,
आजकल मोहब्बत में इतनी गिरावट क्यों है,
तात्पर्य नही मेरा मोहब्बत से प्रेमी प्रेमिका का ,
आजकल अपनो की मोहब्बत में मिलावट क्यों है,
आजकल रिश्तों की मोहब्बत में इतनी गिरावट क्यों है,
✍️ भरत गहलोत
जालोर राजस्थान
संपर्क -7742016184

Language: Hindi
108 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बड़ा हीं खूबसूरत ज़िंदगी का फलसफ़ा रखिए
बड़ा हीं खूबसूरत ज़िंदगी का फलसफ़ा रखिए
Shweta Soni
अंगुलिया
अंगुलिया
Sandeep Pande
कैसी हसरतें हैं तुम्हारी जरा देखो तो सही
कैसी हसरतें हैं तुम्हारी जरा देखो तो सही
VINOD CHAUHAN
खिलते फूल
खिलते फूल
Punam Pande
हमारे जख्मों पे जाया न कर।
हमारे जख्मों पे जाया न कर।
Manoj Mahato
फितरत,,,
फितरत,,,
Bindravn rai Saral
श्रीराम अयोध्या में पुनर्स्थापित हो रहे हैं, क्या खोई हुई मर
श्रीराम अयोध्या में पुनर्स्थापित हो रहे हैं, क्या खोई हुई मर
Sanjay ' शून्य'
भेद नहीं ये प्रकृति करती
भेद नहीं ये प्रकृति करती
Buddha Prakash
नज़रें!
नज़रें!
कविता झा ‘गीत’
मेरी भी कहानी कुछ अजीब है....!
मेरी भी कहानी कुछ अजीब है....!
singh kunwar sarvendra vikram
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Kavita Chouhan
3122.*पूर्णिका*
3122.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी ख़्वाहिशों में बहुत दम है
मेरी ख़्वाहिशों में बहुत दम है
Mamta Singh Devaa
बस्ते...!
बस्ते...!
Neelam Sharma
मूहूर्त
मूहूर्त
Neeraj Agarwal
■ दिल
■ दिल "पिपरमेंट" सा कोल्ड है भाई साहब! अभी तक...।😊
*प्रणय प्रभात*
बताती जा रही आंखें
बताती जा रही आंखें
surenderpal vaidya
" *लम्हों में सिमटी जिंदगी* ""
सुनीलानंद महंत
पहले साहब परेशान थे कि हिन्दू खतरे मे है
पहले साहब परेशान थे कि हिन्दू खतरे मे है
शेखर सिंह
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
Ram Krishan Rastogi
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
आर एस आघात
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
संजय कुमार संजू
-अपनी कैसे चलातें
-अपनी कैसे चलातें
Seema gupta,Alwar
जो संतुष्टि का दास बना, जीवन की संपूर्णता को पायेगा।
जो संतुष्टि का दास बना, जीवन की संपूर्णता को पायेगा।
Manisha Manjari
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
मैं  गुल  बना  गुलशन  बना  गुलफाम   बना
मैं गुल बना गुलशन बना गुलफाम बना
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
"द्वंद"
Saransh Singh 'Priyam'
*सभी ने सत्य यह माना, सभी को एक दिन जाना ((हिंदी गजल/ गीतिका
*सभी ने सत्य यह माना, सभी को एक दिन जाना ((हिंदी गजल/ गीतिका
Ravi Prakash
Loading...