Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

आजकल का प्राणी कितना विचित्र है,

आजकल का प्राणी कितना विचित्र है,
धन-दौलत से तोलता अपने मित्र है।
आज धन भी कितना विचित्र हो गया है,
यह इंसान का सच्चा मित्र हो गया है।
आज कृष्ण से बड़ा पार्थ हो गया है,
सब रिश्तों से बढ़कर स्वार्थ हो गया है।

#दिव्या कुमारी
निवासी :- दिल्ली

Language: Hindi
2 Likes · 50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"जीवनसाथी राज"
Dr Meenu Poonia
शस्त्र संधान
शस्त्र संधान
Ravi Shukla
मेरा मन उड़ चला पंख लगा के बादलों के
मेरा मन उड़ चला पंख लगा के बादलों के
shabina. Naaz
2837. *पूर्णिका*
2837. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सच अति महत्वपूर्ण यह,
सच अति महत्वपूर्ण यह,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे भी थे कुछ ख्वाब,न जाने कैसे टूट गये।
मेरे भी थे कुछ ख्वाब,न जाने कैसे टूट गये।
Surinder blackpen
यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई
यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई
Atul "Krishn"
■ एक महीन सच्चाई।।
■ एक महीन सच्चाई।।
*Author प्रणय प्रभात*
आंबेडकर न होते तो...
आंबेडकर न होते तो...
Shekhar Chandra Mitra
दुनिया एक मेला है
दुनिया एक मेला है
VINOD CHAUHAN
उसकी रहमत से खिलें, बंजर में भी फूल।
उसकी रहमत से खिलें, बंजर में भी फूल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
🥀 *अज्ञानी की कलम* 🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम* 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*साठ के दशक में किले की सैर (संस्मरण)*
*साठ के दशक में किले की सैर (संस्मरण)*
Ravi Prakash
నేటి ప్రపంచం
నేటి ప్రపంచం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
गुरु तेगबहादुर की शहादत का साक्षी है शीशगंज गुरुद्वारा
गुरु तेगबहादुर की शहादत का साक्षी है शीशगंज गुरुद्वारा
कवि रमेशराज
हौसलों की ही जीत होती है
हौसलों की ही जीत होती है
Dr fauzia Naseem shad
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुस्कानों की बागानों में
मुस्कानों की बागानों में
sushil sarna
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
घर नही है गांव में
घर नही है गांव में
Priya Maithil
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ८)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ८)
Kanchan Khanna
गाओ शुभ मंगल गीत
गाओ शुभ मंगल गीत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"बेखुदी "
Pushpraj Anant
कतौता
कतौता
डॉ० रोहित कौशिक
"कारोबार"
Dr. Kishan tandon kranti
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
देश से दौलत व शुहरत देश से हर शान है।
सत्य कुमार प्रेमी
mujhe needno se jagaya tha tumne
mujhe needno se jagaya tha tumne
Anand.sharma
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...