Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2024 · 2 min read

आखिर क्या है दुनिया

डुग्गू ने दादाजी को अनेक बार कहते सुना था कि अभी दुनिया देखी कहाँ है? डुग्गू दादाजी से जिद कर कहता- “दादाजी, आखिर क्या है दुनिया? हमें दुनिया दिखलाओ ना।”

आखिरकार एक दिन दादाजी उड़नपखेरू घोड़े की पीठ पर डुग्गू को बिठाकर दुनिया दिखाने चल पड़े। कुछ दूर जाने के बाद एक गाँव पड़ा। उस गाँव के लोग कहने लगे- “अरे बच्चे का क्या, वो तो पैदल चल सकता है। बच्चों को थकान भी नहीं लगती। घोड़े की पीठ पर बैठना ही था तो बूढ़ा बैठ गया होता। यह बात सुनकर दादाजी ने पोता डुग्गू से कहा- सुन लिया तुमने। अब घोड़े पर मैं बैठता हूँ, तुम पैदल चलो।

कुछ दूर आगे पहुँचने पर नजर पड़ते ही उस गाँव के लोगों ने कहा- बूढ़ा अजीब है, बच्चा पैदल जा रहा और वह बूढ़ा घोड़े की सवारी करता हुआ। बच्चा तो बच्चा है, थककर अस्वस्थ हो सकता है। घोड़े पर दोनों ही बैठ सकते थे।

दादाजी ने पोता से कहा- सुन लिया तुमने, अब आ जाओ हम दोनों ही घोड़े की सवारी करते हुए चलते हैं। दोनों घोड़े पर बैठ गए। फिर बड़े मजे से चलने लगे। फिर एक गाँव पड़ा। उस गाँव के लोगों ने फिर कहा- दोनों बड़े निष्ठुर हैं। इस भरी दोपहरी में घोड़े की पीठ पर लदकर जा रहे हैं। बेहतर होता घोड़े को राहत देने के लिए दोनों ही पैदल चल लेते।

दादाजी ने डुग्गू से फिर कहा- सुन लिया तुमने। चलो हम दोनों उतरकर अब पैदल ही चलें। फिर वे दोनों घोड़े के संग-संग पैदल चलने लगे। कुछ दूर बाद फिर एक गाँव पड़ा। उस गाँव के लोगों ने कहा- कैसे अजीब लोग हैं, हृष्ट-पुष्ट घोड़े के रहते पैदल चले जा रहे हैं।

दादाजी ने डुग्गू से फिर कहा- सुन लिया तुमने। यही दुनिया है। कुछ भी करो, आलोचना करेंगे ही। प्रशंसा और प्रोत्साहन देने वाले विरले ही होते हैं। बेहतर यही कि अपनी सूझबूझ से कार्य करते रहें।

मेरी प्रकाशित लघुकथा-संग्रह :
मन की आँखें (दलहा, भाग-1) से,,,,

डॉ किशन टण्डन क्रान्ति
साहित्य वाचस्पति
अमेरिकन एक्सीलेंट राइटर अवार्ड प्राप्त।

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
gurudeenverma198
एकाकीपन
एकाकीपन
लक्ष्मी सिंह
तुलसी चंदन हार हो, या माला रुद्राक्ष
तुलसी चंदन हार हो, या माला रुद्राक्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*अज्ञानी की कलम शूल_पर_गीत
*अज्ञानी की कलम शूल_पर_गीत
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
नशा और युवा
नशा और युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*अहं ब्रह्म अस्मि*
*अहं ब्रह्म अस्मि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उस चाँद की तलाश में
उस चाँद की तलाश में
Diwakar Mahto
दिल्ली चलें सब साथ
दिल्ली चलें सब साथ
नूरफातिमा खातून नूरी
कोरोना और पानी
कोरोना और पानी
Suryakant Dwivedi
"कीमत"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़िन्दगी तुमको ढूंढ ही लेगी
ज़िन्दगी तुमको ढूंढ ही लेगी
Dr fauzia Naseem shad
@The electant mother
@The electant mother
Ms.Ankit Halke jha
सूर्योदय
सूर्योदय
Madhu Shah
//खलती तेरी जुदाई//
//खलती तेरी जुदाई//
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
जिंदगी भी फूलों की तरह हैं।
जिंदगी भी फूलों की तरह हैं।
Neeraj Agarwal
आज का चयनित छंद
आज का चयनित छंद"रोला"अर्ध सम मात्रिक
rekha mohan
दूध वाले हड़ताल करते हैं।
दूध वाले हड़ताल करते हैं।
शेखर सिंह
तू  फितरत ए  शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है
Dr Tabassum Jahan
#शीर्षक:-बहकाना
#शीर्षक:-बहकाना
Pratibha Pandey
तपोवन है जीवन
तपोवन है जीवन
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
रात हुई गहरी
रात हुई गहरी
Kavita Chouhan
mujhe needno se jagaya tha tumne
mujhe needno se jagaya tha tumne
Anand.sharma
*यूं सताना आज़माना छोड़ दे*
*यूं सताना आज़माना छोड़ दे*
sudhir kumar
ख़ुद्दार बन रहे हैं पर लँगड़ा रहा ज़मीर है
ख़ुद्दार बन रहे हैं पर लँगड़ा रहा ज़मीर है
पूर्वार्थ
"फूलों की तरह जीना है"
पंकज कुमार कर्ण
आहवान
आहवान
नेताम आर सी
यादों का बसेरा है
यादों का बसेरा है
Shriyansh Gupta
गुस्सा दिलाकर ,
गुस्सा दिलाकर ,
Umender kumar
बात जो दिल में है
बात जो दिल में है
Shivkumar Bilagrami
*दही सदा से है सही, रखता ठीक दिमाग (कुंडलिया)*
*दही सदा से है सही, रखता ठीक दिमाग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...