Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Oct 2023 · 1 min read

आखिर कब तक?

#दिनांक:-16/10/2023
#शीर्षक:-आखिर कब तक?

इजराइल, फिलिस्तीन और हमास
स्वतंत्रता, संप्रभुता,स्वायत्तता की चाह में, लेने को सांस,
धर्म के नाम पर कर रहे हैं लड़ाई,
बच्चे, बुजुर्ग, औरत पर भी ना तरस खाई।
कैसा नराधम आतंकी हमास हो गया?
लाचार, बेसहारे बच्चों और औरतों का, सिर कलम कर दिया?
हाय रे इंसान कैसी तेरी इंसानियत ?
पल में दोस्त,
पल में खूनखराबे की फितरत!
माना मन के अंदर सदा रहते दो भाई,
आपस में करते हमेशा लडाई ,
पर क्या कमाल,
बुरे मन ने सोच को उकसा दिया,
मारकर बेकसूर जनों को,
अपने मानवता विरोधी,
धर्म का प्रचार किया ।
गरीब फिलिस्तीन की अमीरी नफरत में झलकी ,
बताओ कब जन्म ले रहे कलयुग के कल्की ?
कब आपस का बैर खत्म होगा ?
कब इंसान के मन से दूषित भाव मिटेगा?
कब रवैया कट्टरता का खत्म होगा ?
आखिर कब तक ,
सत्य अपना तथ्य रखेगा? |

रचना मौलिक,अप्रकाशित,स्वरचित और सर्वाधिकार सुरक्षित है।

प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
217 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज हालत है कैसी ये संसार की।
आज हालत है कैसी ये संसार की।
सत्य कुमार प्रेमी
हॉं और ना
हॉं और ना
Dr. Kishan tandon kranti
मिली उर्वशी अप्सरा,
मिली उर्वशी अप्सरा,
लक्ष्मी सिंह
बारिश और उनकी यादें...
बारिश और उनकी यादें...
Falendra Sahu
हश्र का मंज़र
हश्र का मंज़र
Shekhar Chandra Mitra
चूरचूर क्यों ना कर चुकी हो दुनिया,आज तूं ख़ुद से वादा कर ले
चूरचूर क्यों ना कर चुकी हो दुनिया,आज तूं ख़ुद से वादा कर ले
Nilesh Premyogi
हे नाथ आपकी परम कृपा से, उत्तम योनि पाई है।
हे नाथ आपकी परम कृपा से, उत्तम योनि पाई है।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तू  मेरी जान तू ही जिंदगी बन गई
तू मेरी जान तू ही जिंदगी बन गई
कृष्णकांत गुर्जर
We become more honest and vocal when we are physically tired
We become more honest and vocal when we are physically tired
पूर्वार्थ
నీవే మా రైతువి...
నీవే మా రైతువి...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
वक़्त को गुज़र
वक़्त को गुज़र
Dr fauzia Naseem shad
हिंदी
हिंदी
Bodhisatva kastooriya
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
परिवार का एक मेंबर कांग्रेस में रहता है
परिवार का एक मेंबर कांग्रेस में रहता है
शेखर सिंह
एक लोग पूछ रहे थे दो हज़ार के अलावा पाँच सौ पर तो कुछ नहीं न
एक लोग पूछ रहे थे दो हज़ार के अलावा पाँच सौ पर तो कुछ नहीं न
Anand Kumar
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
Manoj Mahato
फितरत
फितरत
Kanchan Khanna
*
*"हलषष्ठी मैया'*
Shashi kala vyas
मन का आंगन
मन का आंगन
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
चरित्र राम है
चरित्र राम है
Sanjay ' शून्य'
💐प्रेम कौतुक-400💐
💐प्रेम कौतुक-400💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
किसने तेरा साथ दिया है
किसने तेरा साथ दिया है
gurudeenverma198
किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं
किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं
Vivek Pandey
सफ़र से पार पाना चाहता हूँ।
सफ़र से पार पाना चाहता हूँ।
*Author प्रणय प्रभात*
2452.पूर्णिका
2452.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
Acharya Rama Nand Mandal
*खाना लाठी गोलियाँ, आजादी के नाम* *(कुंडलिया)*
*खाना लाठी गोलियाँ, आजादी के नाम* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हीरक जयंती 
हीरक जयंती 
Punam Pande
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
और ज़रा भी नहीं सोचते हम
Surinder blackpen
जय भोलेनाथ
जय भोलेनाथ
Anil Mishra Prahari
Loading...