Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2017 · 1 min read

आखिरी सांस तक रवानी है

आखिरी सांस तक रवानी है।
जिंदगी की यही कहानी है।

जिंदगी का भरोसा क्या करना,
शाख़े गुल है टूट जानी है।

पाल कर रखते दिल में सारा गम,
इश्क़ वालों की ही निशानी है।

रोके जीना भी कैसा जीना है,
हंस के ही रस्म हर निभानी है।

छोड़ दोगे जो तीरगी यारा,
इश्क़ में रुत हरेक सुहानी है।

‘ राज’ दिल में छुपाले जख़्मों को,
रस्मे-उल्फ़त भी तो निभानी है।
——राजश्री——

1 Like · 1 Comment · 515 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ससुराल का परिचय
ससुराल का परिचय
Seema gupta,Alwar
"ग से गमला"
Dr. Kishan tandon kranti
बड़े होते बच्चे
बड़े होते बच्चे
Manu Vashistha
*चाटुकार*
*चाटुकार*
Dushyant Kumar
भगवान
भगवान
Anil chobisa
💐प्रेम कौतुक-322💐
💐प्रेम कौतुक-322💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नदी
नदी
Kumar Kalhans
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
Guru Mishra
और मौन कहीं खो जाता है
और मौन कहीं खो जाता है
Atul "Krishn"
इंसानियत का कत्ल
इंसानियत का कत्ल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बोध
बोध
Dr.Pratibha Prakash
पता ही नहीं चलता यार
पता ही नहीं चलता यार
पूर्वार्थ
नियोजित शिक्षक का भविष्य
नियोजित शिक्षक का भविष्य
साहिल
खेल सारा सोच का है, हार हो या जीत हो।
खेल सारा सोच का है, हार हो या जीत हो।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
एक अध्याय नया
एक अध्याय नया
Priya princess panwar
वाचाल पौधा।
वाचाल पौधा।
Rj Anand Prajapati
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
Mukesh Kumar Sonkar
ज़मी के मुश्किलो ने घेरा तो दूर अपने साये हो गए ।
ज़मी के मुश्किलो ने घेरा तो दूर अपने साये हो गए ।
'अशांत' शेखर
"Hope is the spark that ignites the fire of possibility, and
Manisha Manjari
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
राम आएंगे
राम आएंगे
Neeraj Agarwal
जीवन मर्म
जीवन मर्म
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
प्रिय मैं अंजन नैन लगाऊँ।
प्रिय मैं अंजन नैन लगाऊँ।
Anil Mishra Prahari
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
यह जिंदगी का सवाल है
यह जिंदगी का सवाल है
gurudeenverma198
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लिखना चाहूँ  अपनी बातें ,  कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
लिखना चाहूँ अपनी बातें , कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
DrLakshman Jha Parimal
बचपन बेटी रूप में
बचपन बेटी रूप में
लक्ष्मी सिंह
जो भी पाना है उसको खोना है
जो भी पाना है उसको खोना है
Shweta Soni
3138.*पूर्णिका*
3138.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...