Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 1 min read

“आओ हम सब मिल कर गाएँ भारत माँ के गान”

आओ हम सब मिल कर गाएँ ,
भारत माँ के गान,
स्वर्ण मुकुट मस्तक पर भाता,
चरणों में सागर लहराता,
मलय पवन इसको महकाता,
सबसे प्यारा जग का तारा,
भारत देश महान,
आओ हम सब मिल कर गाएँ, भारत माँ के गान।
हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई
कहलाते जहाँ भाई-भाई, बस्ती जिसमें सबकी जान, वो है मेरा प्यारा भारत देश महान,
आओ हम सब मिल कर गएँ,
भारत माँ के गान।।

“लोहित टम्टा”

61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शुभ धाम हूॅं।
शुभ धाम हूॅं।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
2410.पूर्णिका
2410.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
फूल
फूल
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
तो मैं राम ना होती....?
तो मैं राम ना होती....?
Mamta Singh Devaa
बदलने लगते है लोगो के हाव भाव जब।
बदलने लगते है लोगो के हाव भाव जब।
Rj Anand Prajapati
हर तरफ़ तन्हाइयों से लड़ रहे हैं लोग
हर तरफ़ तन्हाइयों से लड़ रहे हैं लोग
Shivkumar Bilagrami
वास्तविक प्रकाशक
वास्तविक प्रकाशक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आज फिर हाथों में गुलाल रह गया
आज फिर हाथों में गुलाल रह गया
Rekha khichi
🌼एकांत🌼
🌼एकांत🌼
ruby kumari
*ये साँसों की क्रियाऍं हैं:सात शेर*
*ये साँसों की क्रियाऍं हैं:सात शेर*
Ravi Prakash
सितारों को आगे बढ़ना पड़ेगा,
सितारों को आगे बढ़ना पड़ेगा,
Slok maurya "umang"
संस्कार संस्कृति सभ्यता
संस्कार संस्कृति सभ्यता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दोहे- चार क़दम
दोहे- चार क़दम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
ਮੁਕ ਜਾਣੇ ਨੇ ਇਹ ਸਾਹ
ਮੁਕ ਜਾਣੇ ਨੇ ਇਹ ਸਾਹ
Surinder blackpen
बेटी दिवस पर
बेटी दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
हे कौन वहां अन्तश्चेतना में
हे कौन वहां अन्तश्चेतना में
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Time Travel: Myth or Reality?
Time Travel: Myth or Reality?
Shyam Sundar Subramanian
तुम      चुप    रहो    तो  मैं  कुछ  बोलूँ
तुम चुप रहो तो मैं कुछ बोलूँ
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
आप और हम जीवन के सच .......…एक प्रयास
आप और हम जीवन के सच .......…एक प्रयास
Neeraj Agarwal
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
Neerja Sharma
रफ़्ता रफ़्ता (एक नई ग़ज़ल)
रफ़्ता रफ़्ता (एक नई ग़ज़ल)
Vinit kumar
छुड़ा नहीं सकती मुझसे दामन कभी तू
छुड़ा नहीं सकती मुझसे दामन कभी तू
gurudeenverma198
प्यार इस कदर है तुमसे बतायें कैसें।
प्यार इस कदर है तुमसे बतायें कैसें।
Yogendra Chaturwedi
🙅महा-ज्ञान🙅
🙅महा-ज्ञान🙅
*Author प्रणय प्रभात*
तूफानों से लड़ना सीखो
तूफानों से लड़ना सीखो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
घर वापसी
घर वापसी
Aman Sinha
घर
घर
Dr MusafiR BaithA
आशा की एक किरण
आशा की एक किरण
Mamta Rani
*अपना अंतस*
*अपना अंतस*
Rambali Mishra
Loading...