Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2023 · 1 min read

*आओ फिर से याद करें हम, भारत के इतिहास को (हिंदी गजल)*

आओ फिर से याद करें हम, भारत के इतिहास को (हिंदी गजल)
—————————————-
1)
आओ फिर से याद करें हम, भारत के इतिहास को
भागीरथ जो गंगा लाए, उनके पुण्य प्रयास को
2)
रामराज्य की नींव भरत के, जिस तप ने डाली थी
याद करें तपसी के पावन, नंदीग्राम निवास को
3)
धनुष बाण वह रामचंद्र का, है भारत की थाती
याद करें जीता उस से जो, रावण के संत्रास को
4)
याद करें वह युद्ध कृष्ण ने, गीता जहॉं सुनाई
लौटाया अर्जुन के ऐसे, विगत आत्मविश्वास को
5)
याद करें वह भगत सिंह जो, बम-गोलों से खेला
हुआ मनोबल में जिस कारण, अंग्रेजों के ह्रास को
6)
काले पानी में सावरकर, सत्याग्रह गॉंधी के
याद करें उनके हर क्षण में, प्रखर युद्ध-विन्यास को
7)
राजाओं का राज हटा था, जिस पटेल के बल से
नमन करें उस लौह पुरुष की, दृढ़ता भरी मिठास को
————————————
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615 451

274 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
अपनी स्टाईल में वो,
अपनी स्टाईल में वो,
Dr. Man Mohan Krishna
Remeber if someone truly value you  they will always carve o
Remeber if someone truly value you they will always carve o
पूर्वार्थ
बस एक गलती
बस एक गलती
Vishal babu (vishu)
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जो विष को पीना जाने
जो विष को पीना जाने
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सावन बीत गया
सावन बीत गया
Suryakant Dwivedi
2936.*पूर्णिका*
2936.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज़िंदगी का नशा
ज़िंदगी का नशा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
Shweta Soni
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
सिद्धार्थ गोरखपुरी
किसानों की दुर्दशा पर एक तेवरी-
किसानों की दुर्दशा पर एक तेवरी-
कवि रमेशराज
मंगल मय हो यह वसुंधरा
मंगल मय हो यह वसुंधरा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
चांद छुपा बादल में
चांद छुपा बादल में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भगवान
भगवान
Anil chobisa
कहीं भूल मुझसे न हो जो गई है।
कहीं भूल मुझसे न हो जो गई है।
surenderpal vaidya
"तेरे इश्क़ में"
Dr. Kishan tandon kranti
भारत अपना देश
भारत अपना देश
प्रदीप कुमार गुप्ता
कुंडलिया - होली
कुंडलिया - होली
sushil sarna
Emerging Water Scarcity Problem in Urban Areas
Emerging Water Scarcity Problem in Urban Areas
Shyam Sundar Subramanian
ग़ज़ल/नज़्म - न जाने किस क़दर भरी थी जीने की आरज़ू उसमें
ग़ज़ल/नज़्म - न जाने किस क़दर भरी थी जीने की आरज़ू उसमें
अनिल कुमार
*सबसे अच्छा काम प्रदर्शन, धरना-जाम लगाना (हास्य गीत)*
*सबसे अच्छा काम प्रदर्शन, धरना-जाम लगाना (हास्य गीत)*
Ravi Prakash
■ प्रसंगवश....
■ प्रसंगवश....
*Author प्रणय प्रभात*
आंख पर पट्टी बांधे ,अंधे न्याय तौल रहे हैं ।
आंख पर पट्टी बांधे ,अंधे न्याय तौल रहे हैं ।
Slok maurya "umang"
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
ruby kumari
बेटा
बेटा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नर नारी
नर नारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
Paras Mishra
अभिव्यक्ति
अभिव्यक्ति
Punam Pande
*** लहरों के संग....! ***
*** लहरों के संग....! ***
VEDANTA PATEL
Loading...