Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Apr 2018 · 1 min read

आओ पुनर्निर्माण करें….

चहुँ ओर बरबादी का मंजर दिखाई देता है !
नहीं सुरक्षित अब कोई घर दिखाई देता है !!

अपना या पराया कहें किसे हम और कैसे !
हर एक हाथ में अब खंजर दिखाई देता है !!

कभी लहलहाती थी खेती जहाँ दूर तलक !
आज वहीं मरुथल औ बंजर दिखाई देता है !!

वो रूप वो नूरो कमनीयता कहाँ रही अब !
जीवन दुखों का अस्थिपंजर दिखाई देता है !!

बदला बहुत जमाना फलक और सा लगता !
साया भी कहाँ अपना सहचर दिखाई देता है!!

वे जो अपने थे देख अब यूँ तरेरते हैं आँखें !
उनके भीतर जैसे कोई बिषधर दिखाई देता है !!

आओ पुनर्निर्माण करें रचें नव रूप-आकार !
ढाँचा ये इंसानियत का जर्जर दिखाई देता है !!

कितनी हो रात काली टिकती नहीं अधिक है !
झांकता प्राची से रविकर निकर दिखाई देता है !!

खत्म होगी हर अदावत मुहब्बत रंग लाएगी !
आएगा फिर से सुहाना सफर दिखाई देता है !!

– डॉ.सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद (उ.प्र.)

1 Like · 228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
दिखा दो
दिखा दो
surenderpal vaidya
*लव इज लाईफ*
*लव इज लाईफ*
Dushyant Kumar
आँगन की दीवारों से ( समीक्षा )
आँगन की दीवारों से ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
15, दुनिया
15, दुनिया
Dr .Shweta sood 'Madhu'
पल पल रंग बदलती है दुनिया
पल पल रंग बदलती है दुनिया
Ranjeet kumar patre
सागर से दूरी धरो,
सागर से दूरी धरो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम भी बहुत अजीब हैं, अजीब थे, अजीब रहेंगे,
हम भी बहुत अजीब हैं, अजीब थे, अजीब रहेंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
"स्टेटस-सिम्बल"
Dr. Kishan tandon kranti
सुन मेरे बच्चे
सुन मेरे बच्चे
Sangeeta Beniwal
क्रोधी सदा भूत में जीता
क्रोधी सदा भूत में जीता
महेश चन्द्र त्रिपाठी
‌‌‍ॠतुराज बसंत
‌‌‍ॠतुराज बसंत
Rahul Singh
सुहागन की अभिलाषा🙏
सुहागन की अभिलाषा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नाम हमने लिखा था आंखों में
नाम हमने लिखा था आंखों में
Surinder blackpen
*फागुन का बस नाम है, असली चैत महान (कुंडलिया)*
*फागुन का बस नाम है, असली चैत महान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जीवन के रूप (कविता संग्रह)
जीवन के रूप (कविता संग्रह)
Pakhi Jain
जीत का सेहरा
जीत का सेहरा
Dr fauzia Naseem shad
समाधान से खत्म हों,आपस की तकरार
समाधान से खत्म हों,आपस की तकरार
Dr Archana Gupta
थी हवा ख़ुश्क पर नहीं सूखे - संदीप ठाकुर
थी हवा ख़ुश्क पर नहीं सूखे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
23/43.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/43.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बुरा वक्त
बुरा वक्त
लक्ष्मी सिंह
*पुस्तक*
*पुस्तक*
Dr. Priya Gupta
सारी दुनिया में सबसे बड़ा सामूहिक स्नान है
सारी दुनिया में सबसे बड़ा सामूहिक स्नान है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रमेशराज के हास्य बालगीत
रमेशराज के हास्य बालगीत
कवि रमेशराज
अच्छा लगना
अच्छा लगना
Madhu Shah
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिंदगी के लिए वो क़िरदार हैं हम,
जिंदगी के लिए वो क़िरदार हैं हम,
Ashish shukla
किस्मत का लिखा होता है किसी से इत्तेफाकन मिलना या किसी से अच
किस्मत का लिखा होता है किसी से इत्तेफाकन मिलना या किसी से अच
पूर्वार्थ
"दुमका संस्मरण 3" परिवहन सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
कथ्य-शिल्प में धार रख, शब्द-शब्द में मार।
कथ्य-शिल्प में धार रख, शब्द-शब्द में मार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...