Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2016 · 1 min read

आऊँगा मैँ रंग लगाने

आऊँगा मैँ रंग लगाने
॰ ॰ ॰ ॰ ॰
अबकी नव रस धार बहाने
मन की चाहत को भड़काने
सोई आशा एक जगाने
आऊँगा मैँ रंग लगाने
हरदम तुमसे दूर रहा हूँ
कारण मैँ मजबूर रहा हूँ
तड़पा हूँ मैँ तुमसे ज्यादा
पूरा होगा अबकी वादा
होली मेँ तुमसे मिलने मैँ
सूखा हूँ लेकिन खिलने मैँ
आऊँगा तेरी बाँहोँ मेँ
आती हो जैसे आहोँ मेँ
सजना मेरी रानी ऐसे
शादी मेँ थी लगती जैसे
प्यार बहुत तुमसे हूँ करता
मिलने से पहले हूँ डरता
फिर से रोजी दूर करेगी
फिर हमको मजबूर करेगी
लेकिन पल जो मिल जायेँगे
उसमेँ ही हम खिल जायेँगे
इक दूजे को रंग लगाकर
बिछड़ेँगे फिर अंग लगाकर

– आकाश महेशपुरी

Language: Hindi
202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
है कौन जो इस दिल का मेज़बान हो चला,
है कौन जो इस दिल का मेज़बान हो चला,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
धीरे-धीरे ला रहा, रंग मेरा प्रयास ।
धीरे-धीरे ला रहा, रंग मेरा प्रयास ।
sushil sarna
इश्क
इश्क
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मिला है जब से साथ तुम्हारा
मिला है जब से साथ तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
कविता-हमने देखा है
कविता-हमने देखा है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आखिर क्यों
आखिर क्यों
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
Madhuri Markandy
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
सत्य कुमार प्रेमी
"जीवन का सबूत"
Dr. Kishan tandon kranti
विचार , हिंदी शायरी
विचार , हिंदी शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
छूटा उसका हाथ
छूटा उसका हाथ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
गुरु बिन गति मिलती नहीं
गुरु बिन गति मिलती नहीं
अभिनव अदम्य
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
" भाषा क जटिलता "
DrLakshman Jha Parimal
नेता जब से बोलने लगे सच
नेता जब से बोलने लगे सच
Dhirendra Singh
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
Kumar lalit
शिक्षा व्यवस्था
शिक्षा व्यवस्था
Anjana banda
साहस है तो !
साहस है तो !
Ramswaroop Dinkar
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मां की प्रतिष्ठा
मां की प्रतिष्ठा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*अभिनंदन के लिए बुलाया, है तो जाना ही होगा (हिंदी गजल/ गीतिक
*अभिनंदन के लिए बुलाया, है तो जाना ही होगा (हिंदी गजल/ गीतिक
Ravi Prakash
मित्रता
मित्रता
Shashi kala vyas
पेड़ से कौन बाते करता है ?
पेड़ से कौन बाते करता है ?
Buddha Prakash
किसी के दिल में चाह तो ,
किसी के दिल में चाह तो ,
Manju sagar
I love to vanish like that shooting star.
I love to vanish like that shooting star.
Manisha Manjari
बहुत जरूरी है एक शीतल छाया
बहुत जरूरी है एक शीतल छाया
Pratibha Pandey
#तेवरी / #ग़ज़ल
#तेवरी / #ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
मुक्तक
मुक्तक
Sonam Puneet Dubey
शहद टपकता है जिनके लहजे से
शहद टपकता है जिनके लहजे से
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Loading...