Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2023 · 1 min read

आई पत्नी एक दिन ,आरक्षण-वश काम (कुंडलिया)

आई पत्नी एक दिन ,आरक्षण-वश काम (कुंडलिया)
🌿🍂🌺🍂🌿🍂🌿🍂🍃
आई पत्नी एक दिन ,आरक्षण-वश काम
खड़ी चुनावों में हुई , लेकर पति का नाम
लेकर पति का नाम ,चित्र पत्नी का छोटा
पीछे हैं पतिदेव , चेहरा लेकर मोटा
कहते रवि कविराय ,धन्य जो पत्नी पाई
महिला मिली अमूल्य , भरोसे वाली आई
🌱🌱🌱🌱🌱🌱🌱🌱
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

399 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मैं भटकता ही रहा दश्त-ए-शनासाई में
मैं भटकता ही रहा दश्त-ए-शनासाई में
Anis Shah
दुख भोगने वाला तो कल सुखी हो जायेगा पर दुख देने वाला निश्चित
दुख भोगने वाला तो कल सुखी हो जायेगा पर दुख देने वाला निश्चित
dks.lhp
रिश्तों का सच
रिश्तों का सच
विजय कुमार अग्रवाल
"निखार" - ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सोच मे जब तर्क नहीं है
सोच मे जब तर्क नहीं है
Dr fauzia Naseem shad
होलिका दहन
होलिका दहन
Buddha Prakash
तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
हिमांशु Kulshrestha
बीते कल की रील
बीते कल की रील
Sandeep Pande
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Akash Yadav
जेएनयू
जेएनयू
Shekhar Chandra Mitra
मोहब्बत जिससे हमने की है गद्दारी नहीं की।
मोहब्बत जिससे हमने की है गद्दारी नहीं की।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*उजड़ जाता है वह उपवन जहॉं माली नहीं होता (मुक्तक)*
*उजड़ जाता है वह उपवन जहॉं माली नहीं होता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
💐अज्ञात के प्रति-110💐
💐अज्ञात के प्रति-110💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सत्कर्म करें
सत्कर्म करें
Sanjay ' शून्य'
मैं भारत का जवान हूं...
मैं भारत का जवान हूं...
AMRESH KUMAR VERMA
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
*कर्मफल सिद्धांत*
*कर्मफल सिद्धांत*
Shashi kala vyas
विधवा
विधवा
Acharya Rama Nand Mandal
*** नर्मदा : माँ तेरी तट पर.....!!! ***
*** नर्मदा : माँ तेरी तट पर.....!!! ***
VEDANTA PATEL
हमसे तुम वजनदार हो तो क्या हुआ,
हमसे तुम वजनदार हो तो क्या हुआ,
Umender kumar
# अंतर्द्वंद ......
# अंतर्द्वंद ......
Chinta netam " मन "
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
Ram Krishan Rastogi
मना लिया नव बर्ष, काम पर लग जाओ
मना लिया नव बर्ष, काम पर लग जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मैं नहीं, तू ख़ुश रहीं !
मैं नहीं, तू ख़ुश रहीं !
The_dk_poetry
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
इश्क़ का पिंजरा ( ग़ज़ल )
इश्क़ का पिंजरा ( ग़ज़ल )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
कटी नयन में रात...
कटी नयन में रात...
डॉ.सीमा अग्रवाल
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
Anand Kumar
Loading...