Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2023 · 2 min read

आंगन को तरसता एक घर ….

हां ! मैं एक घर हूं ,
सदियों से मैं अस्तित्व में हूं ।
मेरे अंदर लोग रहते हैं ,
परिवार बनाकर ।
सदियों से ही रहते आए हैं।
अंतर बस इतना है कि ,
मेरे अंदर रहने वाले पहले ,
परिवार बड़े हुआ करते थे ।
मेरा आकार बड़ा हो या छोटा हो ,
इससे क्या फर्क पड़ता है ।
लोगों के दिल बड़े हुआ करते थे ।
अब दिल भी छोटे हो गए ,
आकार तो मेरा अब भी बड़ा होता है ,
कहीं कहीं पर ।
मगर अधिकतर छोटा भी होता है ।
लेकिन मेरा मेरा प्यारा आंगन ,
इस निष्ठुर वर्तमान ने छीन लिया ।
अब मैं कलयुग को दोष दूं या इंसानों को !
मुझे मेरा प्यारा गौरव ,
मेरा रूप ,
मुझसे छीन गया ।
मेरी पहचान छीन गईं।
अब मेरा आंगन या तो होता ही नहीं ,
अगर होता है तो उसमें गाय नहीं ,
कुत्ते बिल्ली बंधते हैं।
तुलसी की जगह भी मेरे सामने से हटकर ,
किसी कोने में चली गई है ।
अब मेरा वो आंगन ही न रहा ,
जहां कभी परिवार ,रिश्तेदार,
और पड़ोसी ,मिल बैठकर महफिल जमाते थे ।
अब तो जनाब ! पड़ोसियों के आंगन से ,
आंगन भी नहीं जुड़ते ।
जब आंगन है ही नहीं ,
तो जुड़ेंगे भी कैसे ?
हाय! मेरा प्यारा आंगन ,
मुझसे बिछड़ गया ।
इस भावना विहीन ,
निष्ठुर ,कलयुग ने मेरा आंगन ,
मुझसे छीन लिया ।
मेरे इस आंगन में कभी ,
प्यार ,अपनेपन ,की नदी बहती थी ।
मेरे आंगन में सभी मौसम आकर ,
दस्तक देते थे ।
आह! कितना सुख मिलता था मुझे ।
अपने परिवार के संग मैं भी ,
उनके आनंद में खुशी से झूम जाता था ।
मेरे आंगन में हरियाली छाई रहते थी ।
कई तरह के नन्हे नन्हे और कुछ बड़े ,
पेड़ पौधे,फूल ,लताएं,मेरे आंगन के संग ,
मुझे भी महकाते थे ।
इनसे मेरी शोभा दुगनी हो जाया करती थी ।
अब तो आधुनिकीकरण ने सब बदल दिया ।
मुझे यह बदलाव रास नहीं आ रहा ।
मुझे मेरी खुशियां वापस लौटा दो ।
अरे कलयुगी इंसानों!
मुझे मेरा आंगन वापिस लौटा दो ।

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 199 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
।। अछूत ।।
।। अछूत ।।
साहित्य गौरव
आदित्य यान L1
आदित्य यान L1
कार्तिक नितिन शर्मा
शुभ दिन सब मंगल रहे प्रभु का हो वरदान।
शुभ दिन सब मंगल रहे प्रभु का हो वरदान।
सत्य कुमार प्रेमी
2904.*पूर्णिका*
2904.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन की विफलता
जीवन की विफलता
Dr fauzia Naseem shad
*गली-गली में घूम रहे हैं, यह कुत्ते आवारा (गीत)*
*गली-गली में घूम रहे हैं, यह कुत्ते आवारा (गीत)*
Ravi Prakash
सड़क
सड़क
SHAMA PARVEEN
शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं
शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं
Ritu Asooja
"Let us harness the power of unity, innovation, and compassi
Rahul Singh
पहाड़ी नदी सी
पहाड़ी नदी सी
Dr.Priya Soni Khare
रमेशराज के पर्यावरण-सुरक्षा सम्बन्धी बालगीत
रमेशराज के पर्यावरण-सुरक्षा सम्बन्धी बालगीत
कवि रमेशराज
प्रेम ही जीवन है।
प्रेम ही जीवन है।
Acharya Rama Nand Mandal
हम कितने नोट/ करेंसी छाप सकते है
हम कितने नोट/ करेंसी छाप सकते है
शेखर सिंह
"जाग दुखियारे"
Dr. Kishan tandon kranti
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
Rajesh vyas
मेरे दिल के खूं से, तुमने मांग सजाई है
मेरे दिल के खूं से, तुमने मांग सजाई है
gurudeenverma198
محبّت عام کرتا ہوں
محبّت عام کرتا ہوں
अरशद रसूल बदायूंनी
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
Surinder blackpen
नवगीत : हर बरस आता रहा मौसम का मधुमास
नवगीत : हर बरस आता रहा मौसम का मधुमास
Sushila joshi
मौत
मौत
Harminder Kaur
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
गर समझते हो अपने स्वदेश को अपना घर
गर समझते हो अपने स्वदेश को अपना घर
ओनिका सेतिया 'अनु '
दरवाज़े
दरवाज़े
Bodhisatva kastooriya
ट्रेन का रोमांचित सफर........एक पहली यात्रा
ट्रेन का रोमांचित सफर........एक पहली यात्रा
Neeraj Agarwal
आँख अब भरना नहीं है
आँख अब भरना नहीं है
Vinit kumar
"चार पैरों वाला मेरा यार"
Lohit Tamta
प्यार जताने के सभी,
प्यार जताने के सभी,
sushil sarna
प्यार और मोहब्बत नहीं, इश्क है तुमसे
प्यार और मोहब्बत नहीं, इश्क है तुमसे
पूर्वार्थ
■ सब्र और संघर्ष का सुफल।
■ सब्र और संघर्ष का सुफल।
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...