Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2023 · 1 min read

आंख में बेबस आंसू

सरहद आंख की ,
कोरों की, तोड़ चले
आखिर आंसू बोल पड़े

बहुत अरसे से जमी थी
बर्फ इन किनोरों पर
जरा सी हमदर्दी मिली
पिघले सब्र छोड़ चले

डा राजीव “सागरी”

Language: Hindi
228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अकेलापन
अकेलापन
भरत कुमार सोलंकी
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
Paras Nath Jha
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
Pankaj Sen
ज़िद
ज़िद
Dr. Seema Varma
लैला लैला
लैला लैला
Satish Srijan
!! गुलशन के गुल !!
!! गुलशन के गुल !!
Chunnu Lal Gupta
Rap song (3)
Rap song (3)
Nishant prakhar
गर भिन्नता स्वीकार ना हो
गर भिन्नता स्वीकार ना हो
AJAY AMITABH SUMAN
'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ'
'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ'
Bodhisatva kastooriya
ऐ महबूब
ऐ महबूब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
**मन में चली  हैँ शीत हवाएँ**
**मन में चली हैँ शीत हवाएँ**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
प्यार का नाम मेरे दिल से मिटाया तूने।
प्यार का नाम मेरे दिल से मिटाया तूने।
Phool gufran
वक़्त का सबक़
वक़्त का सबक़
Shekhar Chandra Mitra
*कविताओं से यह मत पूछो*
*कविताओं से यह मत पूछो*
Dr. Priya Gupta
■ तजुर्बे की बात।
■ तजुर्बे की बात।
*Author प्रणय प्रभात*
बचपन की सुनहरी यादें.....
बचपन की सुनहरी यादें.....
Awadhesh Kumar Singh
दोस्त कहता है मेरा खुद को तो
दोस्त कहता है मेरा खुद को तो
Seema gupta,Alwar
राजनीति में इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि क्या मूर्खता है
राजनीति में इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि क्या मूर्खता है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
यही जिंदगी
यही जिंदगी
Neeraj Agarwal
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मनुष्य की महत्ता
मनुष्य की महत्ता
ओंकार मिश्र
सच्ची प्रीत
सच्ची प्रीत
Dr. Upasana Pandey
*सखी री, राखी कौ दिन आयौ!*
*सखी री, राखी कौ दिन आयौ!*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
चंचल मन
चंचल मन
Dinesh Kumar Gangwar
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
काव्य
काव्य
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
उर्वशी की ‘मी टू’
उर्वशी की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
23/96.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/96.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वो साँसों की गर्मियाँ,
वो साँसों की गर्मियाँ,
sushil sarna
Loading...