Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2016 · 1 min read

आँखो की कोई जुबा नही होती/मंदीप

आँखो की कोई जुबा नही होती/मंदीप

आँखो की कोई जुबा नही होती,
अपनों से जुदा होकर ये ऐसे नही रोती।

दर्द बता देती अपना,
गिरा के लाखो के मोती।

जिस से चाहत है हो जाती,
उसके सजदे में ये हमेसा झुकती।

खोल देती दिल के भेद,
जब आँखे लाल होती।

जो दिल को बहा जाये,
ऐसे ही अखियाँ चार नही होती।

मंदीपसाई

1 Comment · 318 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोहा-विद्यालय
दोहा-विद्यालय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"आभाष"
Dr. Kishan tandon kranti
हे सर्दी रानी कब आएगी तू,
हे सर्दी रानी कब आएगी तू,
ओनिका सेतिया 'अनु '
विनती
विनती
Saraswati Bajpai
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
Babli Jha
भ्रांति पथ
भ्रांति पथ
नवीन जोशी 'नवल'
वैराग्य का भी अपना हीं मजा है,
वैराग्य का भी अपना हीं मजा है,
Manisha Manjari
मैं तो महज एक माँ हूँ
मैं तो महज एक माँ हूँ
VINOD CHAUHAN
बिना आमन्त्रण के
बिना आमन्त्रण के
gurudeenverma198
!! ये सच है कि !!
!! ये सच है कि !!
Chunnu Lal Gupta
वक़्त की फ़ितरत को
वक़्त की फ़ितरत को
Dr fauzia Naseem shad
भगवान कहाँ है तू?
भगवान कहाँ है तू?
Bodhisatva kastooriya
*सवाल*
*सवाल*
Naushaba Suriya
फल आयुष्य
फल आयुष्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सर्द हवाओं का मौसम
सर्द हवाओं का मौसम
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
💐मिटा बजूद ही शर्त है,आपसे मिलने की💐
💐मिटा बजूद ही शर्त है,आपसे मिलने की💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2282.पूर्णिका
2282.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
संस्कार संस्कृति सभ्यता
संस्कार संस्कृति सभ्यता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
वो कपटी कहलाते हैं !!
वो कपटी कहलाते हैं !!
Ramswaroop Dinkar
कैसे एक रिश्ता दरकने वाला था,
कैसे एक रिश्ता दरकने वाला था,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल
विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल
Paras Nath Jha
गीतिका/ग़ज़ल
गीतिका/ग़ज़ल
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
देना है तो दीजिए, प्रभु जी कुछ अपमान (कुंडलिया)
देना है तो दीजिए, प्रभु जी कुछ अपमान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
राम राम सिया राम
राम राम सिया राम
नेताम आर सी
कुछ दोहे...
कुछ दोहे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सीने में जलन
सीने में जलन
Surinder blackpen
जज़्बा है, रौशनी है
जज़्बा है, रौशनी है
Dhriti Mishra
Loading...