Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2016 · 1 min read

आँखे

आँखों का पथराना
देखा है या देखी है
आँखों की चंचलता
सूनापन गहरा था या
सम्मोहन का जादू
नयनो की भाषा
मौन होने पर भी
हृदय को करती मुखर
बोल देती
अनकहा भी बहुत कुछ
मैं मेरे नयन पलको के नीचे
तुम्हे निहारते घन्टों
और तुम समझते
आँखे बंद हो भूल गई तुम्हे
मगर …
क्या है इतना आसान
आँखों मे समाई सूरत को
आँखों से ओझल कर देना
मेरी आँखो के सागर मे
तुम मन पर प्रतिबिंबित होता चित्र हो
जिसे संजोए हूँ मै
पलको की परत के नीचे
सदियो से

शिखा श्याम राणा
पंचकूला हरियाणा ।

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Likes · 2 Comments · 295 Views
You may also like:
जान से प्यारा तिरंगा
डॉ. शिव लहरी
चंदा के डोली उठल
Shekhar Chandra Mitra
मेरी निंदिया तेरे सपने ...
Pakhi Jain
"मेरी दुआ"
Dr Meenu Poonia
जोकर vs कठपुतली ~02
bhandari lokesh
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक प्रश्न
komalagrawal750
“अवसर” खोजें, पहचाने और लाभ उठायें
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
लोगों के रंग
Kaur Surinder
सरकारी नौकरी
Sushil chauhan
■ दोहा / पर्व का संदेश
*Author प्रणय प्रभात*
बेटियाँ
shabina. Naaz
बच्चों को भी भगवान का ही स्वरूप माना जाता है...
पीयूष धामी
सीख
Anamika Singh
फ़रियाद
VINOD KUMAR CHAUHAN
आज के ख़्वाब ने मुझसे पूछा
Vivek Pandey
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
किस्मत ने जो कुछ दिया,करो उसे स्वीकार
Dr Archana Gupta
आजादी के दीवानों ने
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खुशियों का मोल
Dr fauzia Naseem shad
✍️ बस में कर लिया है समंदर✍️
'अशांत' शेखर
“ सज्जन चोर ”
DrLakshman Jha Parimal
खुदा का वास्ता।
Taj Mohammad
बुद्धिमत्ता
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*महाराजा अग्रसेन ( कहानी )*
Ravi Prakash
Writing Challenge- धन (Money)
Sahityapedia
अनुपम माँ का स्नेह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
#मोहब्बत मेरी
Seema 'Tu hai na'
एक प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...