Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 21, 2016 · 1 min read

आँखे

आँखों का पथराना
देखा है या देखी है
आँखों की चंचलता
सूनापन गहरा था या
सम्मोहन का जादू
नयनो की भाषा
मौन होने पर भी
हृदय को करती मुखर
बोल देती
अनकहा भी बहुत कुछ
मैं मेरे नयन पलको के नीचे
तुम्हे निहारते घन्टों
और तुम समझते
आँखे बंद हो भूल गई तुम्हे
मगर …
क्या है इतना आसान
आँखों मे समाई सूरत को
आँखों से ओझल कर देना
मेरी आँखो के सागर मे
तुम मन पर प्रतिबिंबित होता चित्र हो
जिसे संजोए हूँ मै
पलको की परत के नीचे
सदियो से

शिखा श्याम राणा
पंचकूला हरियाणा ।

2 Likes · 2 Comments · 238 Views
You may also like:
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ की याद
Meenakshi Nagar
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता
Meenakshi Nagar
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
Loading...