Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 May 2018 · 1 min read

आँखे ने प्रीत की रीत निभाई थी

प्रीत की रीत निभाई थी इन आँखों ने।
आँखों ने कैद किया था सूरत उनकी प्रेम भरी सलाख़ों ने।।

नही मिलता किसी को यहाँ मुक्कमल जहाँ।
ऐसा मीत ढूँढा था हमने लाखों में।।।।।

लता पताये भी गिर कर सुख बिखर गयी फिर से
हरा भरा होना छोड़ दिया इश्क़ में जली साखों ने।।।।

इश्क़ में पड़ी दर्द की सीने पर दीवार
दर्द ही दर्द सहकर जिंदगी बना ली इन दरारों ने।।।

इन बहारों और फिजाओं ने भी फूल बरसाना छोड़ दिया।
चाँद को मनाने में रोशनी कम कर दी हजार तारो ने।

जोडा था स्नेह और प्यार से सारे रिश्तों को एक घेरे में।
अपनी सहभागिता निभाया था मेरे विश्वास के धागों ने।

रचनाकार
गायत्री सोनु जैन
कॉपीराइट सुरक्षित

Language: Hindi
527 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*छॉंव की बयार (गजल संग्रह)* *सम्पादक, डॉ मनमोहन शुक्ल व्यथित
*छॉंव की बयार (गजल संग्रह)* *सम्पादक, डॉ मनमोहन शुक्ल व्यथित
Ravi Prakash
आख़िरी हिचकिचाहट
आख़िरी हिचकिचाहट
Shashi Mahajan
रुपयों लदा पेड़ जो होता ,
रुपयों लदा पेड़ जो होता ,
Vedha Singh
कमाल लोग होते हैं वो
कमाल लोग होते हैं वो
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुहब्बत सचमें ही थी।
मुहब्बत सचमें ही थी।
Taj Mohammad
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
"स्वतंत्रता दिवस"
Slok maurya "umang"
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
मानक लाल मनु
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
पूर्वार्थ
इश्क
इश्क
Neeraj Mishra " नीर "
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
Pratibha Pandey
" तिलिस्मी जादूगर "
Dr Meenu Poonia
*हम पर अत्याचार क्यों?*
*हम पर अत्याचार क्यों?*
Dushyant Kumar
प्राण प्रतीस्था..........
प्राण प्रतीस्था..........
Rituraj shivem verma
कितना बदल रहे हैं हम ?
कितना बदल रहे हैं हम ?
Dr fauzia Naseem shad
मैं असफल और नाकाम रहा!
मैं असफल और नाकाम रहा!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
सब कुछ लुटा दिया है तेरे एतबार में।
सब कुछ लुटा दिया है तेरे एतबार में।
Phool gufran
संवेदनाएं
संवेदनाएं
Dr.Pratibha Prakash
🙅नया मुहावरा🙅
🙅नया मुहावरा🙅
*प्रणय प्रभात*
दोहा छन्द
दोहा छन्द
नाथ सोनांचली
मजदूर
मजदूर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
तो मेरा नाम नही//
तो मेरा नाम नही//
गुप्तरत्न
*The Bus Stop*
*The Bus Stop*
Poonam Matia
जिंदगी के तराने
जिंदगी के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
surenderpal vaidya
ऐ!दर्द
ऐ!दर्द
Satish Srijan
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
Vijay kumar Pandey
ग़रीब
ग़रीब
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
नन्ही मिष्ठी
नन्ही मिष्ठी
Manu Vashistha
Loading...