Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2021 · 2 min read

अहोई आठे की कथा (कविता)

अहोई आठे की कथा
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
(1)
आज अहोई आठे की हम तुमको कथा सुनाएँ
इस दिन संतानों की खातिर व्रत रखती माताएँ
(2)
दिन-भर भूखी रहती हैं भोजन का कौर न खातीं
त्याग बसा इनके जीवन में ,इस में ही सुख पातीं
(3)
जब हो जाती रात गगन तारों से शोभा पाता
तब तारों को देख मुदित माता का मन हो जाता
(4)
जैसे तारे आसमान में झिलमिल-झिलमिल करते
वैसे ही घर के आँगन में खुशियाँ बच्चे भरते
(5)
मिली पूर्णता नारी को जब माँ का दर्जा पाया
शुभ विवाह उपरांत गोद में बच्चा सुंदर आया
(6)
यह माँ का ही बल है ,बच्चे संस्कार हैं पाते
जो-जो गुण माताओं में, वह बच्चों में आ जाते
(7)
जैसी रुचियाँ हैं स्वभाव हैं, माता के सब आते
इन्हें गर्भ से ही बच्चे, अपने जीवन में पाते
(8)
अपने से ज्यादा लगाव, माँ को बच्चों से होता
माँ प्रसन्न होती जब बच्चा दिखता सुख से सोता
(9)
इन तारों को देखो कितना ऊँचा उठ कर आए
चाह रही माँ बच्चा उसका उच्च श्रेष्ठता पाए
(10)
अपने लिए बचाकर माँ ने कभी न रखना सीखा
उसका जीवन बच्चों पर सर्वस्व लुटाते दीखा
(11)
क्या यह किसी एक माँ की ही गाथा हैं हम गाते
क्या यह किसी एक बच्चे की हैं हम कथा सुनाते
(12)
इसमें छवि अपनी-अपनी माँ की पाते हैं सारे
सब माताओं के बच्चे उनकी आँखों के तारे
(13)
मॉं ने सुगढ़ हाथ से अपना बच्चा स्वयं तराशा
कभी प्यार से कभी डाँट से भर दी जीवन-आशा
(14)
जिस घर में माँ त्यागशील है, बच्चे सुगढ़ कहाते
देवलोक के दिव्य देवता, नित्य वहाँ हैं आते
(15)
जग में धन से सब मिलता है किंतु नहीं माँ पाते
जहाँ न होती माँ बच्चे सब बिखर-बिखर हैं जाते
(16)
भाग्यवान वह जिनको माँ का शुभ उपहार मिला है
जिनके मुख को देख-देख मुख माँ का कमल खिला है
(17)
कथा अहोई आठे की इस तरह पूर्णता पाती
यह बच्चों के लिए समर्पित माँ की महिमा गाती
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

1 Like · 1 Comment · 271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*Colors Of Experience*
*Colors Of Experience*
Poonam Matia
गरिमा
गरिमा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
काला धन काला करे,
काला धन काला करे,
sushil sarna
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
REVATI RAMAN PANDEY
इम्तहान दे कर थक गया , मैं इस जमाने को ,
इम्तहान दे कर थक गया , मैं इस जमाने को ,
Neeraj Mishra " नीर "
बिटिया
बिटिया
Mukta Rashmi
प्यार किया हो जिसने, पाने की चाह वह नहीं रखते।
प्यार किया हो जिसने, पाने की चाह वह नहीं रखते।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
(हमसफरी की तफरी)
(हमसफरी की तफरी)
Sangeeta Beniwal
माये नि माये
माये नि माये
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मौत
मौत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
काफ़ी कुछ लिखकर मिटा दिया गया ;
काफ़ी कुछ लिखकर मिटा दिया गया ;
ओसमणी साहू 'ओश'
मैं कहना भी चाहूं उनसे तो कह नहीं सकता
मैं कहना भी चाहूं उनसे तो कह नहीं सकता
Mr.Aksharjeet
"पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
पर्यावरण संरक्षण का संदेश देता हरेला
पर्यावरण संरक्षण का संदेश देता हरेला
Rakshita Bora
मुझे भी तुम्हारी तरह चाय से मुहब्बत है,
मुझे भी तुम्हारी तरह चाय से मुहब्बत है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
भुला देना.....
भुला देना.....
A🇨🇭maanush
3301.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3301.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
■ तजुर्बे की बात।
■ तजुर्बे की बात।
*प्रणय प्रभात*
गीत- किसी से प्यार हो जाए...
गीत- किसी से प्यार हो जाए...
आर.एस. 'प्रीतम'
*गुरु (बाल कविता)*
*गुरु (बाल कविता)*
Ravi Prakash
रिश्ते कैजुअल इसलिए हो गए है
रिश्ते कैजुअल इसलिए हो गए है
पूर्वार्थ
एहसास - ए - दोस्ती
एहसास - ए - दोस्ती
Shyam Sundar Subramanian
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
Rj Anand Prajapati
" कृषक की व्यथा "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
शिव तेरा नाम
शिव तेरा नाम
Swami Ganganiya
हम तुम्हारे हुए
हम तुम्हारे हुए
नेताम आर सी
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Irfan khan
अफ़सोस
अफ़सोस
Dipak Kumar "Girja"
Loading...